15 मरीजों की छीनी आंखों की रोशनी, चेन्नई भेजे गए चारों पीडि़तों की नहीं लौटेगी रोशनी

By: Reena Sharma

Updated On:
24 Aug 2019, 04:50:31 PM IST

  • इंदौर नेत्र चिकित्सालय - 4 मरीज डिस्चार्ज, 3 को आज देंगे छुट्टी

इंदौर. इंदौर नेत्र चिकित्सालय में मोतियाबिंद ऑपरेशन के दौरान 15 मरीजों की आंखों की रोशनी छीनने के मामले में चार मरीजों को चोइथराम नेत्रालय से छुट्टी मिल गई है और चार का इलाज जारी है। वहीं चेन्नई भेजे गए चारों मरीजों की रोशनी अब कभी नहीं लौटेगी। चेन्नई से आए डॉ. रमन ने कहा, मरीजों में संक्रमण पूरी तरह से खत्म हो चुका है, जिन चार मरीजों को छुट्टी दी है, उन्हें दिखना शुरू हो गया है। चार मरीजों को छुट्टी देने का निर्णय शनिवार को लिया जाएगा। 8 हफ्ते बाद ही कहा जा सकेगा कि कितना विजन लौटा है।

must read : इंजीनियर बेटे ने किया मां को फोन और कुछ देर बाद ही खा लिया जहर, शादी की तैयारी कर रहा था परिवार

5 और 8 अगस्त को हुए ऑपरेशन में से 15 मरीज संक्रमण का शिकार होने से अपने नेत्र गंवा चुके थे। 11 मरीजों का इलाज चोइथराम नेत्रालय में 17 अगस्त को शुरू किया गया। दो मरीज मुन्नीबाई रघुवंशी और राधा यादव की आंखें इंदौर नेत्र चिकित्सालय में पहले ही निकाल दी गई थी। बाद में दो मरीज और पहुंचे थे, जिनकी आंखों की रोशनी 5 अगस्त को हुए ऑपरेशन के बाद चली गई थी। पांच मरीजों को इलाज के लिए चेन्नई भेजा है। जिन 8 मरीजों का चोइथराम नेत्रालय में चल रहा है, उनमें से सुशीलाबाई, रामीबाई, कालीबाई और शांतिबाई को शुक्रवार को छुट्टी दे दी गई।

must read : मां ने अपने ही प्रेमी को सौंप दी बेटी, फिर हुआ ये

चेन्नई भेजे गए मरीज बालमुकुंद वैष्णव, मिश्रीलाल, हरपालदास, और मनोहर हरोड़ की आंखें निकाली नहीं गई हैं। संक्रमण खत्म करने के साथ कार्निया टिश्यू ट्रांसप्लांट कर उनकी आंखें तो बचा ली गईं, लेकिन रोशनी लौटने की संभावना न के बराबर है। सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने बताया, एक मरीज मोहन की आंख निकालनी पड़ी है। मरीजों को जल्द वापस लाने की तैयारी की जा रही है। आगे का फॉलोअप इंदौर में ही करने की व्यवस्था की जाएगी।

indore

सिलावट बोले होगी सख्त कार्रवाई

स्वास्थ्य मंत्री सिलावट ने घटना दबाने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई के सवाल पर कहा, संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी परिवार में दु:खद घटना होने पर अमेठी गए हैं। शनिवार को उनके लौटने पर अब तक हुई जांच पर चर्चा की जाएगी। रिपोर्ट की समीक्षा कर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

must read : इंजीनियर बेटे ने किया मां को फोन और कुछ देर बाद ही खा लिया जहर, शादी की तैयारी कर रहा था परिवार

मिलावटखोरों को था भाजपा का संरक्षण

नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव द्वारा 9 माह से सरकार पर कोई काम नहीं कर पाने के आरोप पर सिलावट ने कहा, सरकार को काम करने के लिए सिर्फ 6 माह मिले हैं। भाजपा सरकार के समय मिलावटखोरों को पूरा संरक्षण था। हमने एक माह में ही 10 रासुका, 40 एफआईआर और कई मिलावटखोरों को जिलाबदर किया है।

must read : बच्चों की मौत से सदमे में थी मां , शिप्रा में लगा दी छलांगा, पहले बेटी फिर बेटे की उखड़ गई थी सांसें

डॉक्टर बोले मरीजों की दुआ से मां हुई ठीक

पीडि़तों के इलाज के लिए शंकर नेत्रालय चेन्नई से इंदौर आकर एक सप्ताह तक रुके डॉ. रमन का स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने प्रशस्ति पत्र देकर सम्मान किया। मरीजों को नि:शुल्क सेवाएं देने वाले चोइथराम नेत्रालय के मैनेजिंग ट्रस्टी अश्विनी वर्मा का भी सम्मान किया। डॉ. रमन ने कहा, जब इंदौर आया था तो मां आईसीयू में थीं, एक माह से उनको होश भी नहीं था। ये मरीजों की दुआओं का ही असर है, कि दो दिन पहले उन्हें होश आया और अब वह बातचीत भी करने लगी हैं।

Updated On:
24 Aug 2019, 04:50:31 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।