VIDEO : बेटे-बहुओं का अत्याचार, दो दिन मंदिर के बाहर भूख से तड़पी मां, व्यथा सुन पुलिस भी रो पड़ी

By: Hussain Ali

Updated On:
19 Jun 2019, 10:17:23 AM IST

  • डरी-सहमी अन्नपूर्णा थाने पहुंची तो महिला एसआई ने चाय-बिस्टिक खिलाकर वृद्धाश्रम पहुंचाया

इंदौर. भूखी-प्यासी मां ने अन्नपूर्णा थाने पहुंचकर अपनी व्यथा सुनाई तो मानवता शर्मशार हो गई। 70 वर्षीय मां के दो-दो बेटे-बहू हैं। बेरहम बेटे-बहू ने दो दिन पहले वृद्ध मां को भूखा-प्यासा घर से निकला और ताला लगाकर रफुचक्कर हो गए। देर तक इंतजार के बाद वृद्धा अन्नपूर्णा मंदिर में आसरा ढूंढऩे पहुंची। लोक लाज और अपनों के दर्द से बेहाल मां दो दिन वहीं भूखे-प्यासे रहकर बेटों का इंतजार करती रही और रात को वहीं सो भी जाती। जब आस पूरी तरह टूट गई, तो मंगलवार सुबह अन्नपूर्णा थाने पहुंची। उनकी व्यथा सुनकर पुलिसकर्मियों के आंखों में भी आंसू आ गए।

हर शख्स का पसीज गया दिल

भूख से उनकी आवाज तक नहीं निकल पा रही थी। पुलिसकर्मियों ने बुजुर्ग महिला को ढांढस बंधाया और चाय के साथ बिस्किट का इंतजाम किया। जैसे-तैसे बुजुर्ग की सांसों में सांस लौटी। उन्होंने अपनी दास्तां सुनाई, तो थाने में मौजूद हर शख्स का दिल पसीज गया। हर आंख से आंसू बह निकले। यह दर्दनाक और झकझोर देने वाली घटना जनसेवा नगर निवासी माया (70) पति निम्मा के साथ हुई। मां के रूदन और दर्द को महसूस कर एसआई नीलमणि ठाकुर ने उन्हें निराश्रित सेवा आश्रम पहुंचाया।

एसआई से लिपट गई

एसआई ठाकुर ने बताया, बुजुर्ग मां माया मंगलवार सुबह दस बजे थाने आईं। दर्द बयां कर वह मुझसे लिपटकर रोने लगीं। बोलीं, बेटी, मुझे कुछ सुनाई नहीं देता। मेरे दो बेटे हैं और उनकी शादी हो चुकी है। दोनों ने मुझे घर से निकाल दिया। छोटा बेटा तो मारपीट भी करता है। दो दिन तक अन्नपूर्णा मंदिर के बाहर बैठी रही। एक व्यक्ति ने दस रुपए खर्च के लिए दिए, यह कहकर वह रो पड़ीं। यहां वृद्धाश्रम संचालक यश पाराशर ने उन्हें सांत्वना देकर बेटे जैसा प्यार दिया। अपने बेटे-बहुओं की बेरहमी की शिकार मां महिला एसआई और वृद्धाश्रम संचालक के सिर पर हाथ फेर-फेरकर दुआएं देती रही।

Updated On:
19 Jun 2019, 10:17:23 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।