कामकाज छोड़ आज से 9 दिन तक सिर्फ वाअज करेगा बोहरा समाज

By: Amit S. Mandloi

Updated On: Sep, 12 2018 09:54 AM IST

  • आज से सैफीनगर मस्जिद में वाअज सुनाएंगे सैयदना आलीकदर मौला

इंदौर. 53वें धर्मगुरु सैयदना आलीकदर मुफद्दल सैफुद्दीन मौला सैफी नगर मस्जिद में मोहर्रम की 2 तारीख (12 सितंबर) से 10 तारीख (20 सितंबर) तक मौला वाआज फरमाएंगे। पूरे विश्व से बोहरा समाज के लोग मोहर्रम के लिए इंदौर पहुंच रहे हैं। बच्चे स्कूल-कॉलेज छोड़ आए हैं वहीं लोगों ने नौकरी और काम-काज से से छुट्टी ले ली है। 9 दिन सिर्फ वाअज होगी।

सैकड़ों छात्रों ने छोड़ी परीक्षा

सैयदना के निर्देश के बाद समाज के स्कूल-कॉलेज के छात्र-छात्राओं ने नौ दिन के सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए। इन दिनों सभी अवकाश पर रहेंगे। अभी देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी की बीबीए सेकंड, बीसीए थर्ड, बीएड, एलएलबी, बीपीटी की परीक्षाएं चल रही हैं। वआज के कारण समाज के छात्रों ने इन्हें आगे बढ़ाने की मांग की थी। परीक्षाओं की तैयारी के बाद यूनिवर्सिटी ने टाइम टेबल में संशोधन से इनकार किया तो कई छात्र-छात्राओं ने यूनिवर्सिटी के समाधान केंद्र में परीक्षा फॉर्म वापसी का आवेदन दिया।

13 जगह प्रसारण व सामूहिक भोज

समिति सदस्य मोहम्मद पीठावाला, बुरहानुद्दीन शकरूवाला ने बताया, नूरानी नगर, अम्मार नगर, मसाकिन सैफिया, हसनजी नगर, छावनी, सियागंज, बोहरा बाखल, गांधीनगर, जूनापीठा, बद्रीबाग, हकीमी मोहल्ला, राऊ, महू एवं उज्जैन में वाअज का सीधा वीडियो-ऑडियो प्रसारण व सामूहिक भोज होगा। उधर, मंगलवार को समाजजन ने एक-दूसरे को नए साल की मुबारकबाद भी दी। उसके बाद सामूहिक भोज हुआ। सैयदना को ४० से अधिक व्यंजन पेश किए गए। इकबाल चप्पू ने कहा, घरों में भी थाल सजाए गए।

पाक से आए 1486 समाजजन को सूरत का ही वीजा, वहीं लाइव सुनेंगे
विश्वभर से मोहर्रम में सैयदना की वाअज सुनने दो लाख से अधिक रजिस्ट्रेशन हुए थे। 40 देशों से आए समाजजन में 14 हजार विदेशी हैं। पाकिस्तान से आए 1486 में से अधिकतर को सूरत के लिए वीजा मिला है। इस कारण वे सीधे वाअज में शामिल नहीं हो पाएंगे। सैयदना की वाअज का सीधा प्रसारण सूरत में भी होगा। समाज ने कलेक्टर से पाकिस्तान से आए समाजजनों को वाअज सुनने का मौका यहीं देने की गुहार की।

 

नए साल की नमाज-

मंगलवार को सैयदना ने माणिकबाग रोड स्थित बुरहानिया सैफिया मवाइद में नए साल की पहली नमाज अदा कराई। हैदर महूवाला व जौहर मानपुरवाला ने बताया, हजारों समाजजन ने उनके दीदार कर मौला मुबारक व मौला मौला मुफद्दल मौला की सदाएं बुलंद की।

8 दिनों में मिल गई मस्जिद की जमीन
सैफी हाउसिंग कोआपरेटिव सोसायटी के पूर्व सचिव फखरू²ीन सफदरी ने कहा, आईडीए से 1.18 लाख वर्गफीट जमीन एक रुपए प्रतिवर्ष की लीज पर मिली थी। इसमें शर्त यह थी कि सार्वजनिक हित के लिए कार्य किया जाएगा, मजहबी कार्य नहीं होगा। बोहरा समाज को 18 वर्षों तक सरकारी उलझनों के कारण मस्जिद की अनुमति नहीं मिली। इसे लेकर ५२वें सैयदना से मिलने गए। उन्होंने दुआ की और कहा कि 8 दिन में परेशानियां खत्म हो जाएंगी। भोपाल व इंदौर कार्यालयों में 8 दिनों में ही परेशानियां खत्म हो गई और २० हजार वर्गफीट जमीन आईडीए ने फ्री करते हुए मस्जिद के लिए अनुमति दे दी।

टूटे रैम्प को किया दुरुस्त
सोमवार को वाअज के दौरान सैयदना से मिलने के लिए समाजजन रैम्प पर चढ़ गए थे जिसके कारण रैम्प टूट गया था। मंगलवार को समाजजन ने ताबड़तोड़ रैम्प को वेल्डिंग कर सुधार करने का कार्य किया।

तैयार की नई गाड़ी
सैयदना के लिए विशेष गाड़ी तैयार की है, जिसमें तीनों तरफ से उनका दीदार होगा। सफेद गाड़ी का उपयोग सैयदना मोहर्रम के दौरान करेंगे। वहीं जिस तख्त पर उनके पिता ने बैठकर वाअज की थी, वही तैयार किया है।

सडक़ का निर्माण
प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा को देखते हुए उनके आगमन रूट पर सडक़ का निर्माण किया जा रहा है। सैफीनगर और आसपास समाजजनों की आवाजाही होने से सुरक्षा के साथ पूरे मार्ग पर २४ घंटे सफाई की जा रही है।

स्पेशल ट्रेन से आए यात्री
मंगलवार को मुंबई से स्पेशल ट्रेन इंदौर पहुंची। समाजजनों के पहुंचने पर हेल्प डेस्क ने मदद की। इंदौर की जमीन पर उतरते ही यात्रियों ने जिस जमीन पर सैयदना की वाअज होने वाली है, उसे चुमा और सलाम किया।

कुवैत में हरियाली कम सफाई बराबर
कुवैत से लौटे हुसैनी सैफुद्दीन दाऊदवाला ने कहा, वहां हरियाली इंदौर से कम है लेकिन सफाई में दोनों शहर बराबर है। देश और प्रदेश की हुकूमत भी पूरा सहयोग कर रही है। सैयदना की दुआ से शहर को लाभ मिलेगा।

यहां लोग नेकदिल और सहयोगी
मक्का से आए शक ताहिर अली ने कहा कि इंदौर आकर अच्छा लगा। हरियाली व स्वच्छता में इंदौर सबसे आगे है। यमन और इंदौर स्वच्छता और हरियाली में बराबर है। यहां के लोग नेकदिल और सहयोगी हैं।

दी थी महिलाओं से नर्म व्यवहार की सीख
फरीदा सफदरी ने कहा, 2002 में भी सैयदना ने कहा था, कुदरत ने महिलाओं को नाजुक बनाया है तो उनसे नर्म व्यवहार रखें। महिलाएं फूल की करह हैं, सिर्फ प्रेम के साथ खुशबू लें। महिलाएं भी पति की आज्ञा का पालन करें।

यमन से 200 लोग मोहर्रम के लिए आए
यमन से आए मंशुर अली ने कहा कि सैयदना का इंदौर आना सकुन है। अभी तक 3 जगह मोहर्रम की वाअज कर चकु है पर सबसे अच्छी व्यवस्था यहां पर देखी है। शहर में काफी सकुन है। सैयदना की दुआ से इंदौर ओर विकास करेंगा। यमन की तरह इंदौर भी काफी स्वच्छ है। यमन से लगभग २०० लोग मोहर्रम के लिए यहां आए है।

moula in indore

Published On:
Sep, 12 2018 09:50 AM IST