प्रकाश जावड़ेकर बोले- जम्मू-कश्मीर में शांति, अब POK को भारत में मिलाने का होगा प्रयास

By: Manish Geete

Updated On: 12 Aug 2019, 06:55:56 PM IST

  • देश के सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ( Prakash Javadekar ) ने कहा है कि अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधान समाप्त किए जाने के बाद से जम्मू-कश्मीर में शांति का माहौल है और सरहद के इलाकों में भी जो कर्फ्यू ( curfew ) और पाबंदियां ( restrictions ) लगाई गई थी, वो करीब-करीब हटा ली गई हैं।

     

इंदौर। देश के सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ( Prakash Javadekar ) ने कहा है कि अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधान समाप्त किए जाने के बाद से जम्मू-कश्मीर में शांति का माहौल है और सरहद के इलाकों में भी जो कर्फ्यू ( curfew ) और पाबंदियां ( restrictions ) लगाई गई थी, वो करीब-करीब हटा ली गई हैं। एक सवाल के जवाब में जावड़ेकर ने कहा कि पीओके के भारत में विलय के प्रयास किए जाएंगे।

 

प्रकाश जावड़ेकर सोमवार को इंदौर में भाजपा कार्यालय आए थे। इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से यह बात कही। जावड़ेकर ने कहा कि फिलहाल जम्मू-कश्मीर में शांति है और आम जन-जीवन सामान्य की ओर बढ़ रहा है। आज वहां बेहद उत्साह से बकरीद मनाई गई। जावड़ेकर ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में इस दौरान गोलीबारी में कुछ लोगों की मौत की अफवाहें उड़ाई गई थी, लेकिन सभी अफवाहें झूठी निकली।


प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय और जम्मू-कश्मीर प्रशासन के मुताबिक जम्मू-कश्मीर में एकाध जगह छोटा-मोटा प्रदर्शन हुआ था, लेकिन बाकी स्थानों पर आम जन-जीवन शांतिपूर्ण है। जावड़ेकर ने यह भी बताया कि सभी जगहों पर लगाया गया कर्फ्यू और पाबंदियां करीब-करीब हटा ली गई हैं। जम्मू-कश्मीर में केंद्र की तरफ से लगाई गई पाबंदियों को लेकर कांग्रेस के आरोपों पर भी जावड़ेकर ने अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने बताया कि जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान प्रेरित आतंकवाद के सफाये का अभियान चल रहा है।

 

 

पीओके के विलय का प्रयास किया जाएगा
-एक सवाल के जवाब में जावड़ेकर ने कहा कि पीओके भी भारत का ही हिस्सा है। वर्ष 1994 में हमारी संसद प्रस्ताव पारित कर चुकी है कि भारत में पीओके के विलय का प्रयास किया जाएगा।

 

 

देखें VIDEO

पाकिस्तान ने नहीं ली भारत से मिठाई
ईद के मौके पर जब भारत की तरफ से पाकिस्तान को मिठाई की पेशकश की गई तो उसने मना कर दिया। इस पर जावड़ेकर ने कहा कि यह बात पड़ोसी देश के छोटेमन की परिचायक है।

 

और क्या-क्या बोले जावड़ेकर
-कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस के राज में साल-साल भर कर्फ्यू लगा रहता था। फिलहाल वहां कुछ स्थानों पर चंद दिनों के लिए कर्फ्यू लगाने का फैसला लिया गया था। बाकी स्थानों पर हालात सामान्य रहे।
-आर्टिकल 370 ने पाकिस्तान को भारत में अलगाववादी प्रचार करने का हथियार मुहैया करा दिया था। इससे हिन्दुस्तान में आतंकवाद को भी बढ़ावा मिल रहा था। हमने जम्मू-कश्मीर के आम नागरिकों को न्याय और उनको बुनियादी अधिकार देने के लिए संसद में ऐतिहासिक विधेयक पारित कराया।
-केवल जम्मू और लद्दाख में ही नहीं, कश्मीर घाटी में भी लोग इस ऐतिहासिक विधेयक के पारित होने का स्वागत कर रहे हैं।
-अयोध्या में मन्दिर पहले से बना है। इसे भव्य स्वरूप दिया जाना बाकी है। उच्चतम न्यायालय में इस मामले में सुनवाई जारी है। हमें आशा है कि वहां भव्य राम मंदिर बनेगा।

Updated On:
12 Aug 2019, 06:48:35 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।