अब इंदौर के पास भी एक बल्लेबाज... उतार दो टीम

By: Hussain Ali

Updated On:
12 Aug 2019, 02:26:11 PM IST

  • कुमार विश्वास ने म्यूजिकल कंसर्ट में श्रोताओं को खूब हंसाया

इंदौर.कल इंदौर में कुमार विश्वास का म्यूजिकल कंसर्ट था। खेल प्रशाल में हुए इस कार्यक्रम में कुमार ने इंदौर के बल्लाकांड पर चुटकी लेते हुए कहा कि अब तो इंदौर की टीम भी आईपीएल में उतर सकती है। इंदौर के पास भी एक अच्छा बल्लेबाज आ गया है। इसके अलावा कुमार ने अनुच्छेद 370 को छुआ और इसके जरिए जहां एक ओर पीएम नरेंद्र मोदी व गृहमंत्री अमित शाह की तारीफों के पुल बांधे, वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान व इमरान खान को निशाने पर लिया। देर रात तक श्रोता कुमार की कविताओं का रस लेते रहे और उनकी हर लाइन पर तालियां बजती रहीं।

indore

विधायक आकाश विजयवर्गीय के बल्लाकांड पर कुमार ने अपने ही अंदाज में चुटकी ली। उन्होंने कहा कि अक्सर लोग उनसे पूछते हैं, कहते हैं कि अलग-अलग प्रांतों की टीम आईपीएल में क्रिकेट खेलती है। इंदौर की टीम क्यों नहीं खेलती? तो उनका एक ही जवाब होता है कि अगर इंदौर की टीम भी खेलेगी, तो फिर सट्टा कौन लगाएगा। पर अब इंदौर को भी क्रिकेट खेलना चाहिए, क्योंकि अब इंदौर के पास भी एक अच्छा बैट्समैन आ गया है। पूरी दुनिया को पता चल गया है कि इंदौर के पास भी एक बल्लेबाज है।

तुमसे एक मांगा था, दो दे दिए

कुमार ने एक वाकया सुनाते हुए कहा कि वे गांधीधाम गुजरात में एक प्रोग्राम में गए थे। वहां उन्होंने गुजरात के लोगों से कहा कि मेरा भी ठीक से स्वागत करो, क्योंकि मैं दिल्ली से आया हूं। आपने जिन्हें भेजा था, उनका हमने ठीक से स्वागत किया। अब हमारी बारी है। इसके साथ ही एक शिकायत भी की कि तुमसे एक मांगा था, तुमने दो भेज दिए। बड़ा तो छोड़ो, छोटा वाला तो कुछ ज्यादा ही जोश में नजर आ रहा है।

अब तो वहां भी पहुंच गए

छह साल हो गए जिस चैनल को खोलो, उस पर ही प्रधानमंत्री। कांग्रेसी नेता से पूछने पर उन्हें जवाब मिला कि अब हम चैनलों पर होने वाली डिबेट में नहीं जाते। जब यह पूछा कि तो फिर क्या करते हो? तो उन्होंने बोला कि अब डिस्कवरी चैनल देखते हैं, लेकिन वे तो अब वहां भी पहुंच गए।

युवाओ को यूं दिया संदेश

खुद से भी मिल ना सको इतने पास ना होना।
इश्क तो करना लेकिन कभी देवदास ना होना।।

सत्ता की रोटी भी व्यापक अकड़ जाती

उनका कहना था कि सत्ता कि रोटी उलटती-पलटती रहनी चाहिए। मध्यप्रदेश में यह बता भी दिया है, अगर सत्ता की रोटी एक ही तरफ से सिक जाएगी तो 15 साल रहने के बाद एक ओर से व्यापक अकड़ जाती है। उन्होंने व्यापमं घोटाले का नाम लिए बिना प्रदेश की पुरानी सरकार पर तंज कसा।

कमल को देने को कहा था, इसलिए नाथ पर लगा दिया

मध्यप्रदेश में सत्ता बदली तो भाजपा के लोगों ने वोटरों से पूछा कि ऐसा क्यों, तो जनता बोली कि आप ही ने तो कहा था कमल को देना, हमने नाथ पर लगा दिया। इसके साथ ही कांग्रेस की सरकार की बड़ाई भी की।

विधायक टॉयलेट भी जाएं तो सीएम को चिंता

अपने चुटीले अंदाज में कुमार विश्वास ने कहा कि इन दोनों ने मिलकर इंडियन पॉलिटिक्स की हालत यह कर दी है कि अगर पांच विधायक एक साथ विधानसभा में टॉयलेट चले जाएं तो सीएम दरवाजे पर खड़े हो जाते हैं। उनको डर रहता है कि कहीं पीछे वाली खिड़की से शाह इन्हें ले न जाएं।

40 की जमा होगी, 80 की मिलेगी

प्रधानमंत्री अच्छा बोलते हैं। मैं भी डर लगने लगा था। कहीं प्रधानमंत्री टीवी पर आए और बोलें, भाइयों और बहनों आज रात 12 बजे के बाद आप सब की वैधानिक पत्नियां...। इस पर पुरुषों की ताली बजीं तो बोले- इतना मत खुश होओ। समझ लो, उसका नाम मोदी है। हजार का नोट वापस लेकर दो हजार का देता है। 40 की जमा करवाएगा और 80 की वापस करेगा। फिर बोलोगे भाभी को छोड़कर आया था, अम्मा मिल गई।

15 अगस्त को हाथ पर होगी कश्मीरी बहनों की राखी

अतिउत्साह में कुछ बेहूदा लोगों ने कश्मीर की बहनों को लेकर अश्लील टिप्पणी की है। उन्हें बताना है कि इस 15 अगस्त पर मेरे हाथ में कश्मीरी बहन की राखी होगी। कश्मीर की सभी बेटियों से भी कहना चाहते हैं कि आप महान कवयित्री राबिया की पुत्रियां हैं। इस देश के सारे भाई आपकी रक्षा में खड़े हैं। आपको पत्थर उठाने की जरूरत नहीं। किसी की बुरी नजर अगर आप पर जाएगी तो पूरा देश आपके साथ खड़ा होगा। वहीं कश्मीर में प्लॉट के मैसेज चलाने वालों को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि आज देश को एकजुट होना है।

ढाका में तो नहीं थे

कुमार ने एक और किस्सा सुनाते हुए कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के समय वहां की विदेश मंत्री ने एक ट्वीट किया था कि अगर जरूरत पड़ी तो वह भी हिंदुस्तान के खिलाफ जंग में उतरेंगे। उनका कहना था कि उनके नाना फौज में रहे और वह भी लड़ाई लड़ सकती हैं। उन्हें ट्वीट करते हुए पूछा था कि आपके नाना कहीं ढाका में तो पोस्टेड नहीं रहे, उनसे यह पूछ लेना।

देश के सैनिको के लिए एक गीत गाते हुए उन्होंने कार्यक्रम का अंत कुछ यूं किया-

दौलत ना अता करना मौला
शोहरत ना अता करना मौला
बस इतना अता करना
चाहे जन्नत ना अता करना मौला
शम्मा ए वतन की लो पर कुर्बान पतंगा हो
होठों पर गंगा हो, हाथों में तिरंगा हो।

Updated On:
12 Aug 2019, 02:26:11 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।