माणिकबाग रेलवे ओवरब्रिज के नीचे बनेगा बगीचा

By: Hussain Ali

Updated On:
13 Aug 2019, 09:30:00 AM IST

  • स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के चलते किया जा रहा काम

इंदौर.माणिक बाग ब्रिज के नीचे वाले हिस्से में अब जल्द ही एक सुंदर बगीचा नजर आएगा, जिसको लेकर काम शुरू हो गया है। काम स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत किया जा रहा है, जिसमें बुजुर्गों के बैठने और घूमने की भी जगह रहेगी। वहीं कुछ हिस्सा पाॄकग के लिए छोड़ा जाएगा ताकि जनता परेशान न हो।

must read : पीडब्ल्यूडी मंत्री हुए व्यापारियों पर नाराज,बोले- जब गरीबों के आशियाने टूट रहे थे, तब कहां थे ये लोग

17 साल पहले रेलवे क्रासिंग की समस्या को दूर करने के लिए नगर निगम ने माणिक बाग पर ओवर ब्रिज बनाया था। ब्रिज के निचे वाले हिस्से को ऐसे ही छोड़ दिया गया था जिसकी वजह से गैरेज, सब्जी की दुकानें लग गईं और कई कब्जे हो गए। इसको लेकर आसपास के रहवासियों ने कई बार शिकायतें कीं, लेकिन कुछ नहीं हुआ। यहां तक कि पार्षद कंचन गिदवानी भी महापौर मालिनी गौड़ के पास पहुंची थीं। आखिरकार माणिक बाग ओवर ब्रिज के नीचे वाले हिस्से के उत्थान का मुहूर्त आ गया। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में इसे ले लिया गया।

must read : जरा याद करो कुर्बानी : कान के पास से गोली निकली तो जान सूखी, आजादी के जज्बे में हर प्रताडऩा लगती तोहफा

ब्रिज के नीचे बने पिलर व आसपास के हिस्से का सौंदर्यीकरण का काम शुरू हो गया है। बगीचा बनाने के लिए बकायदा क्यारियां बनना शुरू हो गई हैं। पार्षद के बेटे विशाल गिदवानी खड़े रहकर काम को देख रहे हैं। गिदवानी के मुताबिक पिलर पर हरियाली की जाएगी तो क्यारियों में सुंदर पौधे लगाए जाएंगे। वहीं ब्रिज के नीचे पेवर ब्लॉक लगाकर सजाया जाएगा। बैठने के लिए कुर्सियां लगाई जाएंगी ताकि बुजुर्ग वहां घूमने के साथ आराम से बैठ सकें। सुंदर लाइटें भी लगाई जाएंगी। कुछ हिस्सें में पाॄकग भी रहेगी तो दोनों और आने-जाने के लिए एक सड़क बनाई जाएगी।

भविष्य में हटाएंगे अवैध कब्जे

ब्रिज के नीचे कई लोगों ने अवैध कब्जे कर रखे हैं। कुछ सब्जी वाले काबिज हो गए हैं तो कुछ गैरेज वालों ने अपने यहां सुधरने आने वाली कारों को रखना शुरू कर दिया है। बची कसर फूल-फल वालों ने पूरी कर दी है।

छोटी भुजा पर भी होगा काम

रूपराम नगर में उतरने वाली छोटी भुजा के नीचे भी सौंदर्यीकरण का काम होगा। जगह कम होने की वजह से क्यारियां तो नहीं बनाई जा सकतीं, लेकिन यहां पर गमले रखकर सजाया जाएगा। इसके अलावा पिलरों को हरियाली से ढंका जाएगा। ये सारा काम क्लीन इंदौर और ग्रीन इंदौर की तर्ज पर हो रहा है।

Updated On:
13 Aug 2019, 09:30:00 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।