युवाओं को 10 हजार वेतन पर नौकरी रखा, बांड के 25-25 हजार लेकर भाग गई साफ्टवेयर कंपनी

By: Pramod Mishra

Updated On:
12 Aug 2019, 11:31:39 PM IST

  • नौकरी पर रखे युवाओं से 22 लाख लेकर भागी साफ्टवेयर कंपनी, 49 युवकों की शिकायत पर केस दर्ज


इंदौर. निरंजनपुर इलाके में संचालित हो रही साफ्टवेयर कंपनी सुपर लाइट इंफोटेक प्रा. लि. के मालिक व मैनेजर के खिलाफ पुलिस ने धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। आरोपियों ने युवाओं को नौकरी पर रखा और बांड के रूप में 25-25 हजार रुपए जमा कराए। करीब 22 लाख रुपए जमा कराए और वेतन भी नहीं दिया। कंपनी का मैनेजर ऑफिस बंद कर फरार हो गया।
लसूडिय़ा टीआई संतोष दूधी के मुताबिक, साकेत नगर निवासी यश जैन व उसके साथी सोनू गुप्ता, यश वशिष्ठ, नीलेश खत्री आदि करीब 49 साथियों की शिकायत पर पुलिस ने कंपनी के मालिक वेदप्रकाश शुक्ला निवासी फैजाबाद व मैनेजर शिवांश उर्फ आदित्य राणा निवासी लखनऊ, यूपी के खिलाफ केस दर्ज किया है। यश व उसके जैसे करीब 100 लोगों को कंपनी ने साफ्टवेयर डेवलपर के काम का झांसा दिया था। मैनेजर शिवांश ने सभी युवाओं को करीब एक डेढ़ महीने पहले साफ्टवेयर डेवलपर के पद पर नियुक्त किया और ऑफिस में काम कराया। सभी को पहले महीने 10 हजार रुपए व फिर 15 से 18 हजार रुपए वेतन देने का वादा था। साथ ही कंपनी की पॉलिसी के तहत बांड के रूप में सभी से 25-25 हजार रुपए जमा कराए थे। करीब 22 लाख रुपए युवाओं ने जमा किए। आरोप है कि जब वेतन देने का समय आया तो शिवांश 9 अगस्त को आफिस बंद कर भाग गया। सभी को वाट्सऐप पर मैसेज भेजा कि कंपनी 1 सितंबर से विजयनगर बिजनैस पार्क में चलेगी। मैसेज में यह भी कहा कि मामले में पुलिस से शिकायत की तो किसी को वेतन नहीं मिलेगा। युवक वहां पहुंचे तो कंपनी का पता नहीं चला। मालिक ने भी हाथ खड़े कर दिए तो सभी लोग थाने पहुंचे। पुलिस केस दर्ज कर आगेे जांच कर रही है।

Updated On:
12 Aug 2019, 11:31:39 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।