बैंक अधिकारी बन प्रोफेसर के खाते से उड़ाए 73 हजार, खुद को बताया आरबीआई अधिकारी

By: Reena Sharma

Updated On:
24 Aug 2019, 02:55:19 PM IST

  • भंवरकुआं पुलिस ने दर्ज किया धोखाधड़ी का केस

इंदौर. देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के आईईटी में पदस्थ प्रोफेसर ब्रह्मान सिंह निवासी ब्रह्मपुरी की शिकायत पर भंवरकुआं पुलिस ने एक मोबाइल नंबर व खाताधारक के खिलाफ केस दर्ज किया है।

must read : इंजीनियर बेटे ने किया मां को फोन और कुछ देर बाद ही खा लिया जहर, शादी की तैयारी कर रहा था परिवार

टीआई संजय शुक्ला ने बताया, फरियादी को नवंबर 2017 में ठग ने फोन कर खुद को आरबीआई अधिकारी बताया और बातचीत में उनसे आधार कार्ड व एटीएम नंबर प्राप्त कर लिया। फिर कहा कि एटीएम कार्ड को आधार से एक्टिवेट कर रहा हूं। ठग ने उन्हें छह बार मैसेज किए। बाद में उन्हें पता चला कि ठग ने उनके बैंक खाते से आनलाइन वालेट में 73,300 रुपए से अधिक ट्रांसफर कर लिए।

must read : मां ने अपने ही प्रेमी को सौंप दी बेटी, फिर हुआ ये

एटीएम कार्ड बंद होने का झांसा, 48 हजार निकाले

युवक को एटीएम कार्ड बंद होने का झांसा देकर पिन कोड हासिल किए और अकाउंट से 48 हजार निकाल लिए। आजादनगर पुलिस ने समीर पिता अब्दुल की शिकायत पर केस दर्ज किया है।

must read : बच्चों की मौत से सदमे में थी मां , शिप्रा में लगा दी छलांगा, पहले बेटी फिर बेटे की उखड़ गई थी सांसें

लाखों की धोखाधड़ी का आरोपी यूपी से गिरफ्तार

indore

सॉफ्टवेयर कंपनी में नौकरी देने के नाम पर युवाओं से 22 लाख की ठगी करने के आरोपी को पुलिस ने यूपी से पकड़ा। वह वहां मोबाइल दुकान चलाता है। उसके नाम पर सॉफ्टवेयर कंपनी का संचालन हो रहा था।लसूडिय़ा पुलिस ने 12 अगस्त को करीब 100 युवाओं की शिकायत पर सॉफ्टवेयर कंपनी सुपर लाइट इंफोटेक प्रा.लि. के मालिक वेदप्रकाश शुक्ला निवासी फैजाबाद व मैनेजर शिवांश उर्फ आदित्य राणा निवासी लखनऊ (यूपी) के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया था। कंपनी ने ऑफिस खोलकर युवाओं को सॉफ्टवेयर डेवलपर पद पर नियुक्ति दी थी।

must read : इंजीनियर बेटे ने किया मां को फोन और कुछ देर बाद ही खा लिया जहर, शादी की तैयारी कर रहा था परिवार

कंपनी की पॉलिसी के तहत बांड के रूप में सभी से 25-25 हजार रुपए जमा कराए थे। युवाओं ने करीब 22 लाख रुपए जमा किए। काम कराने के बाद वेतन दिए बिना ऑफिस बंद कर दिया। टीआई संतोष दूधी के मुताबिक, जांच में कंपनी का रजिस्ट्रेशन वेदप्रकाश शुक्ला के नाम होना पता चला। पैसा भी उसी के अकाउंट में जमा हुआ। एसआई अजय गुर्जर की टीम ने फैजाबाद जाकर वेदप्रकाश को गिरफ्तार किया। गुर्जर के मुताबिक, आरोपी वहां मोबाइल दुकान का संचालन करता है। वह खुद के नाम से कंपनी होने से इनकार कर रहा है। उसका कहना है, शिवांश से एक विज्ञापन के जरिए मिला था। उसने नौकरी दिलाने के लिए उसके दस्तावेज लेकर यह फर्जीवाड़ा किया। वह शिवांश को नहीं जानता। पुलिस उसे रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है।

Updated On:
24 Aug 2019, 02:55:19 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।