सीएए के विरोध में अंजुमन का धरना

By Zakir Pattankudi

|

20 Jan 2020, 09:26 PM IST

Hubli, Dharwad, Karnataka, India

सीएए के विरोध में अंजुमन का धरना
हुब्बल्ली
शहर की अंजुमन ए इस्लाम संस्था के नेतृत्व में सोमवार को अल्ताफ नगर, एनए नगर, ईश्वर नगर व जन्नत नगर के निवासियों ने एनआरसी तथा सीएए के खिलाफ शहर के मिनी विधानसौधा के सामने धरना दिया। प्रदर्शनकारियों ने इस दौरान केंद्र सरकार के खिलाफ आजादी-आजादी नारे लगाए और तुरन्त एनआरसी तथा सीएए वापस लेने की मांग की। यह धरना एक सप्ताह तक प्रतिदिन सुबह 10 से शाम 5 बजे तक चलेगा। इस दौरान हर दिन चार इलाकों के निवासी धरना देंगे।
धरने में अंजुमन संस्था के अध्यक्ष मुहम्मद युसूफ सवणूर, पूर्व मंत्री एएम हिंडसगेरी, पूर्व सांसज प्रो. आईजी सनदी, पूर्व विधान परिषद सदस्य इसमाइल कालेबुड्डे, अल्ताफ हुसैन हल्लूर, बशीर हल्लूर समेत बड़ी संख्या में महिला, पुरुष, बूढ़े उपस्थित थे।

एमईएस नेताओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग
-जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन
हुब्बल्ली
बेलगावी में शहीद दिवस कार्यकम में विवादात्मक बयान देने वाले एमईएस नेताओं के खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई करने की मांग को लेकर कर्नाटक रक्षणा वेदिके स्वाभिमानी गुट बेलगावी संभाग के पदाधिकारियों ने केंद्रीय मंत्री के नाम जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा।
ज्ञापन में कहा है कि बेलगावी में 17 जनवरी को महाराष्ट्र एकीकरण समिति (एमईएस) की ओर से आयोजित शहीद दिवस के दौरान समिति के नेताओं ने न्यायाधीश महाजन आयोग की रिपोर्ट के अनुसार 26 4 गांव महाराष्ट्र में शामिल होने चाहिए थे परन्तु कर्नाटक राज्य सरकार ने न्यायाधीश महाजन पर अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर रिपोर्ट में अनियमितता कर इन गांवों को कर्नाटक में शामिल किया है कह कर आम सभा में विवादात्मक बयान दिया है। इस बयान के जरिए कर्नाटक राज्य तथा राज्य की जनता को अपमानित किया है। संपूर्ण रिपोर्ट की सच्चाई को जाने बगैर बार-बार कन्नडिगाओं तथा मराठी भाषियों के बीच भाषा तथा सीमा मुद्दे पर विष बीज बो रहे हैं। ऐसे राज्यद्रोही संगठन को तुरन्त कर्नाटक में रद्द करना चाहिए।
इस दौरान कर्नाटक रक्षणा वेदिके स्वाभिमानी गुट बेलगावी संभाग के अध्यक्ष पापु धारे, महेश मडिवालर, ज्ञानेश बोले, रोनित जेडी, विनायक तीटे, सचिन भजंत्री, रियाज मेगडे समेत आदि उपस्थित थे।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।