सैलानियों के लिए यहां पर शैलचित्रों के साथ मिलेगा हरियाली का आनंद

By: Sandeep Nayak

Updated On:
12 Aug 2019, 02:58:29 PM IST

  • बड़ी पहाडिय़ा के सामने तीन एकड़ में बनेगा पार्क

होशंगाबाद। पर्यटकों की सुविधाओं में लगातार बढ़ोतरी के प्रयास किए जा रहे हैं। भारतीय पुरातत्व विभाग द्वारा आदमगढ़ बड़ी पहाडिय़ा के सामने विभाग की जमीन पर पार्क डेवलप किया जाएगा। तीन एकड़ एरिया में बनने वाले इस पार्क का निर्माण उद्यानिकी विभाग आगरा करेगा। पार्क में फल, फूल और औषधीय पौधे लगाए जाएंगे। बच्चों के झूले भी लगाए जाएंगे, जिससे पर्यटकों को बेहतर सुविधाएं मिले। खास बात ये है कि पार्क में पहाडिय़ा पर बने शैलचित्रों की विशेषता और उनकी पूरी जानकारी भी दर्ज की जाएगी। जिससे शैलचित्रों का महत्व पता चल सकेगा। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग संरक्षक सहायक विजय शर्मा ने बताया कि आदमगढ़ पहाडिय़ा के सामने विभाग की तीन एकड़ भूमि पर पार्क बनाया जाएगा। पार्क को उद्यानिकी विभाग आगरा द्वारा डेवलप किया जाएगा। इसके अलावा आदमगढ़ पहाडिय़ा में पर्यटकों की सुविधा के लिए अन्य निर्माण चल रहे हैं।

खास बातें : आदमगढ़ में 20 चट्टानी आश्रय चित्रकारी से सजे हैं, जो लगभग चार किलोमीटर क्षेत्र में फैले हैं। यह शैलचित्र पाषाण काल तथा मध्यपाषाण काल के हैं। शैलाश्रयों में पशु जैसे वृषभ, गज, अश्व, सिंह, गाय, जिराफ, हिरण आदि योद्धा, मानवकृतियां, नर्तक, वादक तथा गजारोही, अश्वरोही एवं टोटीदार पात्रों का अंकन है। इन चित्रों को खनिज रंग जैसे हेमेटाइट, चूना, गेरू आदि में प्राकृतिक गोंद, पशु चर्बी के साथ पाषाण पर प्राकृतिक रूप से प्राप्त पेड़ों के कोमल रेशों अथवा जानवरों के बालों से बनी कूची की सहायता से उकेरा गया है। हर साल आते हैं 50 हजार से ज्यादा पर्यटक। पहाड़ी क्षेत्र में पाषाण उपकरणों की भरमार है। वर्ष 1960-61 के दौरान हुए उत्खननों में आदमगढ़ से बड़ी मात्रा में पाषाण उपकरण मिले थे।

Updated On:
12 Aug 2019, 02:58:29 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।