भुगतान नहीं मिलने के कारण काम छोडकर जा रहे मजदूर, खरीदी हो रही प्रभावित

By: Sanjeev Dubey

Published On:
Apr, 25 2019 11:00 AM IST

  • समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी में तुलाई की धीमी गति, पिछड़ रहा खरीदी कार्य, किसान हो रहे परेशान,

खिरकिया. समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी की धीमी गति के चलते खरीदी कार्य पिछड़ रहा है। इससे किसानों को भी असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें अपनी उपज बेचने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। कुछ केन्द्रों पर तौल कांटो की कमी बतायी जा रही है, तो कहंीं पर तुलाई एवं उपज का उठाव करने वाले हम्मालो की संख्या कम है। विकासखंड में 10 समितियों के सदस्य करीब 12 केन्द्रों पर गेहूं उपार्जन का कार्य कर रहे हंै। यहां पर अभी तक 2 लाख 2 हजार 292 क्विंटल गेहूं की उपज क्रय हो चुकी है। फिर भी वर्तमान समय पर गत वर्ष हुई खरीदी से पिछड़ती नजर आ रही है। किसानों का कहना है कि गत वर्ष इस समय तक 80 प्रतिशत गेंहू खरीदी हो चुकी थी, लेकिन इस वर्ष यह आंकडा केवल 30 से 40 प्रतिशत ही हो सका है। सक्तापूर के कृषक गौरव पिपलोनिया ने बताया कि 25 मार्च से गेंहू खरीदी शुरू होना था, लेकिन देखा जाए तो पिछले 10 दिनों से गेहूं खरीदी कार्य हुआ है। तुलाई की गति काफी धीमी रखी जा रही है। जहां कुछ विशेष किसानों को महत्व अधिक दिया जा रहा है वहीं अन्य किसानों के साथ पक्षपात किया जा रहा है। गत दिवस सक्तापूर में किसानों द्वारा नाराजगी भी जतायी थी। इसके पूर्व भी कई केन्द्रो से धीमी तुलाई गति को लेकर षिकायत प्राप्त हो चुकी है।

 

हम्मालों की कमी, नए ठेकेदार को मिला ठेका
तुलाई की धीमी गति के पीछे हम्मालो की कमी बतायी जा रही है, वहीं दूसरा कारण किसानों द्वारा नए ठेकेदारों को ठेका दिया जाना बताया जा रहा है। आगामी समय में चने की खरीदी भी की जाना है, लेकिन गेहूं की खरीदी ही समय पर नही हो पाएगी, तो चना खरीदी कार्य भी पिछड़ जाएगा।

मजदूरी का नहीं हो रहा भुगतान, प्रभावित हो रही तुलाई
समितियों द्वारा भी मजदूरों का भुगतान समय पर नहीं किया जा रहा है जिससे मजदूर भी तुलाई कार्य नहीं कर रहे हैं। कार्य प्रारंभ करने के बाद से ठेकेदारों को हम्माली की मजदूरी राशि का भुगतान नहीं मिला है। तुलावटी हम्मालों को उनकी मजदूरी का भुगतान कई दिनों से नहीं हुआ है। मजदूरों को भुगतान नहीं मिलने पर वह कार्य छोडकर जा रहे हंै जिससे खरीदी कार्य प्रभावित हो रहा हैै।

इनका कहना
खरीदी केन्द्रों पर हम्मालों की संख्या बढ़ायी गई है। हम्मालों को भुगतान नहीं मिलने के कारण भी तुलाई कार्य प्रभावित हो रहा है। वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया है।
ओम श्रीवास, प्रबंधक, जिला सहकारी बैंक, खिरकिया

इक्कीस दिन में हुई 50 प्रतिशत खरीदी,रोज तुल रहीं 125 ट्रॉलियां
मसनगांव. मसनगांव समिती द्वारा इक्कीस दिनों में पचास प्रतिशत खरीदी कर ली गई है। समिती द्वारा तीन केन्द्रों पर खरीदी की जा रही है। पलासनेर स्थित नवज्योती वेयर हाऊस पर दो केन्द्रों पर खरीदी की जिसमे मसनगांव केन्द्र पर 25177 क्विंटल और गांगला केन्द्र पर 23777 क्विंटल गेहूं खरीदा गया। यहां पर रोजाना प्लेट कांटे के माध्यम से 90 से लेकर 125 ट्रॉली गेंहू तौला जा रहा है। इसी प्रकार करीबी ग्राम कमताड़ा में 22 हजार क्विंटल गेहूं छोटे कांटे से तौला जा चुका है। समिती में 383 किसानों ने अपनी उपज विक्रय के लिए पंजीयन कराया था जिनमे से आधे किसानों की उपज खरीदी जा चुकी है। वहीं 19 अपै्रल तक खरीदी गई उपज की राशि खातों में डाल दी गई है। समिति के सहायक प्रबंधक अखिलेश पाटिल ने बताया कि तीनों केंद्रों पर आने वाले सप्ताह में अधिकांश किसानों की उपज तुल जाएगी। वहीं समिती द्वारा शीघ्र चने की खरीदी शुरू की जायेगी जिसके लिए केन्द्र पर वारदानों की गठाने आ चुकी हैं।

Published On:
Apr, 25 2019 11:00 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।