YATRA शोभायात्रा में ऊंट व घोड़ों ने बढ़ाई ‘शोभा’

By: Anurag Thareja

Published On:
Jul, 10 2019 10:07 PM IST


जिला स्थापना दिवस पर निकाली शोभायात्रा
- जंक्शन में रेलवे स्टेशन से दुर्गा मंदिर धर्मशाला तक निकाली गई शोभायात्रा

हनुमानगढ़. जिला स्थापना के 25 वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर आयोजित चार दिवसीय रजत जयंती समारोह के पहले दिन शाम को शोभा यात्रा निकाली गई। जिला मुख्यालय पर ये शोभा यात्रा जंक्शन में रेलवे स्टेशन से रवाना होकर दुर्गा मंदिर धर्मशाला तक निकाली गई। शोभा यात्रा रेलवे स्टेशन से रवाना होकर भगत सिंह चौक, राजीव चौक, बस स्टेंड होते हुए दुर्गा मंदिर धर्मशाला पहुंची। शोभा यात्रा में जहां सबसे आगे पुलिस लाइन घुड़साल के जवान मांगीलाल भारी के नेतृत्व में घोड़ों पर सवार होकर चल रहे थे तो उनके पीछे जिले के आलाधिकारीगण, फिर घोड़ों की बग्गी महिला एवं बाल विकास विभाग की 51 महिलाएं कलश लिए हुए, आमजन, पुलिस के जवान और आखिर में 11 ऊंटों का काफिला चल रहा था। शोभा यात्रा जिस मार्ग से गुजरी लोगों ने खड़े होकर और ताली बजाकर उसका अभिवादन किया। इससे पहले शोभा यात्रा रवाना होने से पहले महिला एवं बाल विकास विभाग की महिला पर्यवेक्षकों, कार्यकर्ताओं और साथिनों इत्यादि ने मिलकर रंगोली रेलवे स्टेशन पर बनाई। जिसकी सभी ने प्रशंसा की। रेलवे स्टेशन पर शाम को सांस्कृतिक प्रस्तुति भी दी गई। दुर्गा मंदिर धर्मशाला में यात्रा के समापन अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिला जज ज्ञान प्रकाश गुप्ता ने कहा कि लोग मौलिक अधिकार के साथ साथ कर्तव्यों का भी ध्यान रखें। मंच संचालन सीईओ जिला परिषद परशुराम धानका ने किया। शोभा यात्रा में जिला जज ज्ञान प्रकाश गुप्ता, जिला कलक्टर जाकिर हुसैन, एसपी कालूराम रावत, कृषि उपज मंडी चेयरमैन रामेश्वर चांवरिया, एडीएम अशोक कुमार असीजा, सीईओ जिला परिषद परशुराम धानका, डीएसओ अरविंद जाखड़, एसडीएम कपिल यादव, पीआरओ सुरेश बिश्नोई, नगर परिषद आयुक्त शैलेन्द्र गोदारा आदि मौजूद रहे।

Published On:
Jul, 10 2019 10:07 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।