महिला मित्र से मिलने भोपाल से आया दोस्त, मिलते ही चंद मिनटों में हो गई मौत

By: monu sahu

Updated On:
25 Aug 2019, 01:48:10 PM IST

  • युवक के मौत के बाद परिजनों ने लगाया आरोप, पुलिस ने मामले की जांच शुरू की

ग्वालियर। भोपाल से फेसबुक फ्रेंड से मिलने के लिए ग्वालियर आए युवक की करंट लगने से मौत हो गई। महिला दोस्त का कहना है कि वह बिजली का बोर्ड मे आई खराबी सुधार रहा था। तभी उसे करंट लग गया। लेकिन युवक के घरवाले इस बात को नहीं मान रहे। उन्होंने हत्या की शंका जताई है। फिलहाल ग्वालियर थाना पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है। पुलिस के मुताबिक भोपाल निवासी आदिल खान (25) पुत्र आविद की मौत हुई है।

यह भी पढ़ें : देश के टॉप संस्थान के हॉस्टल में मिली ऐसी चीजें, जिसे देख गुस्साए छात्र और जमकर मचाया हंगामा

आदिल डोर फ्रेमिंग का अच्छा कारीगर था। नारायण विहार कालोनी निवासी योगेश से उसकी दोस्ती थी। उसके साथ काम भी करता था। गोसपुरा की एक महिला से उसकी फेसबुक पर दोस्ती हो गई। गुरुवार को उसी से मिलने के लिए भोपाल से ग्वालियर आया। 12 बजे अपने दोस्त योगेश के पास पहुंचा। 4 बजे योगेश के घर से महिला मित्र से मिलने निकल आया।

यह भी पढ़ें : सावधान : शहर में घूम रही हैं नकली पुलिस, आपके साथ भी हो सकती है ठगी

महिला मित्र ने पुलिस को बताया कि घर मे लगे बिजली बोर्ड में कुछ खराबी आ गई थी। उसे आदिल सुधार रहा था। अचानक उसे करंट लग गया। कुछ देर तड़पने के बाद गिर पड़ा। उन्हें पता चला तो जेएएच लेकर आए।

यह भी पढ़ें : प्यार में कोई तकरार है तो फिर आ जाइए यहां, टूटे दिल भी जुड़ जाते हैं यहां, कुछ ऐसी है ये जगह

जहां उसकी मौत हो गई। आदिल के घरवालों ने योगेश को फोन करके कहा कि आदिल का मर्डर हो गया है। इसके बाद योगेश जेएएच आया तो आदिल की मौत हो चुकी थी। महिला मित्र से पूछा तो उसने करंट लगना बताया।लेकिन घरवालों का कहना है आदिल बिजली का काम जानता था। उसे करंट नही लग सकता।

यह भी पढ़ें : प्रदेश के इस मंदिर में करोड़ों के गहने पहनते हैं राधा-कृष्ण, लाखों की संख्या में आते है भक्त

डेढ साल पहले हुई थी दोस्ती
महिला मित्र गोसपुरा में रहती है। उसके पति का निधन हो चुका है। उसके एक बेटी और बेटा है। करीब डेढ साल पहले आदिल से फेसबुक के जरिए दोस्ती हुई थी। पहले तो फेसबुक पर बातचीत होती रही। फिर मोबाइल पर बातचीत चलने लगी। चूंकि वह दो साल पहले ग्वालियर में योगेश के साथ काम कर चुका है। इसलिए ग्वालियर आना-जाना लगा रहता था। योगेश के काम में हाथ बंटाने के लिए आ जाता था।

 

Updated On:
25 Aug 2019, 01:48:10 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।