संस्कृत भाषा को बनाएगी लोकप्रिय एनसीईआरटी

  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) को सरकारी स्कूलों में संस्कृत को लोकप्रिय बनाने को कहा है।
ग्वालियर, संस्कृत सभी भाषाओं की जननी है। समय-समय पर इसे बढ़ावा देने की बात सामने आती है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) को सरकारी स्कूलों में संस्कृत को लोकप्रिय बनाने को कहा है। आने वाले कुछ सालों में राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान और सर्व शिक्षा अभियान के अंतर्गत पांच लाख संस्कृत के शिक्षकों को इसके लिए टे्रनिंग दी जाएगी। जिससे वे स्कूल में बच्चों को संस्कृत के प्रति रुचि जागृत कर सके।

तीन महीने में भेजनी होगी रिपोर्ट
एनसीईआरटी को तीन महीने के अंदर स्टेटस रिपोर्ट मांगी गई है। जिसमें परिषद को सेकंडरी एजुकेशन  में तीन भाषा नियम और हायर सेकंडरी में दो भाषा नियम के अंतर्गत रिपोर्ट देनी है। परिषद को यह भी निर्देशित किया गया है कि वे बताएं स्कूल में कौन सी तीन भाषा को पढ़ाया जा रहा है। साथ ही यह भी बताना होगा कि उस भाषा को किस क्लास तक के लिए लागू किया गया है।