सिंध में आया 80 हजार क्यूसेक पानी, आसपास के गांव में अलर्ट जारी

By: monu sahu

Updated On:
25 Aug 2019, 03:38:28 PM IST

  • मोहनी सागर पिकअप डैम से सिंध में आया पानी, नहरों से पानी छोड़े जाने से किसान खुश है और खेत भी लबालब

ग्वालियर। मोहनी सागर डैम से पिछले 9 दिनों से रोज हरसी बांध में 12 सौ क्यूसेक पानी छोड़े जाने की वजह से हरसी का जलस्तर बढ़ गया है। जिससे किसानों की आस और बढ़ गई है। शनिवार को मोहनी डैम नरवर से करीब 80 हजार क्यूसेक पानी सिंध नदी में छोड़ा गया है। जिसे लेकर अधिकारियों ने सिंध नदी के आसपास के गांवों को हाई अलर्ट कर दिया है। साथ ही राजस्व अमले को सतत् मॉनीटरिंग करने के आदेश दिए गए है।


यह भी पढ़ें : देश के टॉप संस्थान के हॉस्टल में मिली ऐसी चीजें, जिसे देख गुस्साए छात्र और जमकर मचाया हंगामा

मड़ीखेड़ा बांध से छोड़ा जा रहा पानी मोहनी डैम में ओवरफ्लो होने की वजह से शनिवार को सुबह 11 सिंध नदी में करीब 80 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया। जिससे सिंध नदी में उफान आ गया है और प्रशासन ने नदी के आसपास में रहने वालों को अलर्ट कर दिया है।


यह भी पढ़ें : सावधान : शहर में घूम रही हैं नकली पुलिस, आपके साथ भी हो सकती है ठगी

16 अगस्त को भी मड़ीखेड़ा बांध से 50 हजार से अधिक क्यूसेक पानी सिंध नदी में छोड़ा गया था। जल संसाधन विभाग के सूत्रों के मुताबिक यदि मड़ीखेड़ा डैम से, जब डैम का जल स्तर अधिक हो गया था तभी से ही हरसी बांध में पानी छोड़ा जाता तो नदी में पानी छोड़े जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती और हरसी बांध पर्याप्त भर सकता था।


यह भी पढ़ें : महिला मित्र से मिलने भोपाल से आया दोस्त, मिलते ही चंद मिनटों में हो गई मौत

वाटर लेवल बढ़ा
मोहनी डैम से 16 अगस्त से रोज 12 क्यूसेक पानी हरसी डैम में छोड़े जाने की वजह से वर्तमान में हरसी बांध का वाटर लेवल क्षमता 264.93 मीटर की तुलना में 260.11 मीटर हो गया है। हालांकि अभी भी डैम 4.82 मीटर खाली है।


यह भी पढ़ें : प्यार में कोई तकरार है तो फिर आ जाइए यहां, टूटे दिल भी जुड़ जाते हैं यहां, कुछ ऐसी है ये जगह

16 आगस्त से पहले हरसी बांध का जलस्तर 258.41 मीटर था। इधर, जितना पानी आ रहा है उतना हरसी बांध से लगभग 11 सौ क्यूसेक पानी नहरों में छोड़ा जा रहा है। जिससे जितना पानी हरसी बांध को मिल रहा है उतना ही हरसी बांध से पानी छोड़े जाने से वाटर लेवल धीरे-धीरे बढ़ रहा है। वर्तमान में हरसी का वाटर लेबल बढऩे से जल संसाधन विभाग का कहना है कि अब किसानों को पर्याप्त पानी मिलेगा।

 

दो गुना ज्यादा हो रही धान की फसल
नहरों से पानी छोड़े जाने की वजह से किसान खुश है और खेत लबालब है। यही कारण है कि धान की फसल पिछले साल से करीब दो गुना ज्यादा हो रही है। पिछले साल 11904 हैक्टेयर रकवा में हुई थी इस साल अभी तक 22500 हैक्टेयर रकवा में धान की रोपाई हो चुकी है। जिससे डबरा ब्लॉक में लक्ष्य 19 हजार से ज्यादा धान हो रही है। जल संसाधन विभाग के इंजीनियर एचबी भदौरिया ने कहा कि वर्तमान में जल स्तर बढऩे से किसानों को धान के लिए पर्याप्त पानी मिल सकेगा।

हरसी बांध की स्थिति
पानी नहीं छोड़े जाने के पहले का जलस्तर - 258.41 मीटर
पानी छोड़े जाने के बाद का वर्तमान जलस्तर- 260.11 मीटर
हरसी बांध के जल स्तर की क्षमता - 264.93 मीटर
हरसी बांध में भरा है पानी - 86.20 एमसीएम
हरसी बांध में पानी भरने की क्षमता -192.67 एमसीएम
हरसी बांध में मोहनी बांध से आ रहा पानी - 1200 क्यूसेक

Updated On:
25 Aug 2019, 03:38:28 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।