रोप-वे भूमि आवंटन को यथावत रखा जाए: सांसद

ग्वालियर. किले पर बहुप्रतिक्षित रोपवे के अपर टर्मिनल निर्माण के लिए २६ अप्रैल-२००७ को तत्कालीन कलेक्टर ने ४००० वर्ग मीटर भूमि का आवंटन नगर निगम को किया गया था। बिना नए स्थान का चयन किए पुराने टर्मिनल के स्थान की भूमि का आवंटन निरस्त करने की अनुशंसा की गई है यह सरासर गलत है और ग्वालियर की जनता के साथ धोखा है। सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने कलेक्टर को पत्र लिखकर भूमि आवंटन की यथास्थिति रखने का कहा है।
सांसद ने पत्र में कहा, नगर निगम अब रोप-वे के अपर टर्मिनल निर्माण के लिए वैकल्पिक स्थान तलाश रहा है। फूलबाग से किले तक रोप-वे एक महत्वकांक्षी परियोजना है। अपर टर्मिनल का निर्माण कार्य प्रगति पर है। निर्माण के लिए शासकीय विभागों की अनापत्तियां भी प्राप्त हो चुकी है, ऐसी स्थिति में नगर निगम वैकल्पिक स्थान को तलाश रहा है। किले की जिस दीवार के कारण टर्मिनल बदलने की बात कही जा रही है। वह संरक्षित स्मारकों की सूची में नहीं है। नए स्थान का चयन कर पूर्व में आवंटित स्थल को निरस्त करना अनेकों सवाल खड़े कर सकता है। इस पत्र के माध्यम से यह मांग करते हैं कि उक्त भूमि आवंटन को यथावत ही रखा जाए।


गार्बेज टैक्स का बोझ जनता पर न डाले, वापस ले
नगर पालिक निगम गार्बेज टैक्स लगाया गया है। टैक्स को लेकर जनता में आक्रोश है। नगर निगम पूर्व में ही 226 रुपए वार्षिक स्वच्छता कर, 226 रुपए शिक्षा कर और 500 रुपए वार्षिक समेकित का जनता से ले रही है ऐसी अवस्था में अलग से गार्बेज टैक्स प्रत्यारोपित करना अव्यवहारिक है और अतार्किक है। ऐसे में नियमित कर भरने वाले नागरिकों पर नए कर थोपकर आर्थिक बोझ डालना अनुचित है। इसे तुरंत वापिस लिया जाए। इस संबंध में भाजपा जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी के नेतृत्व में पार्षद दल के प्रतिनिधि मंडल ने सोमवार को संभागीय आयुक्त को विभिन्न मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।