ग्वालियर रेलवे के एक नए तरीके ने बचाए रेलवे विभाग महिने के 3 लाख, जानिए कारण

By: Gaurav Sen

Updated On: 20 Apr 2019, 01:41:28 PM IST

  • ग्वालियर रेलवे के एक नए तरीके ने बचाए रेलवे विभाग महिने के 3 लाख, जानिए कारण

ग्वालियर. झांसी मंडल के ग्वालियर डिपो में लगभग ढाई साल पहले लाउंड्री का संचालन शुरू किया गया। इस लाउंड्री में ग्वालियर के साथ खजुराहो की ट्रेनों में इस्तेमाल होने वाले चादर, पिलो कवर और टॉबिल की धुलाई होती है। अभी तक यहां लाउंड्री में बॉयलर को चलाने के लिए डीजल का उपयोग किया जाता है। इसके चलते कार्बन उत्सर्जित होता है और परिचालन लागत भी काफी महंगा पड़ता है। भारतीय रेल द्वारा पहले प्रयोग के रूप में उत्तर मध्य रेल के ग्वालियर डिपो में स्थित मैकेनाइज्ड लाउंड्री के बॉयलर को चलाने के लिए एक निजी गैस कंपनी द्वारा डीजल की जगह गैस का उपयोग किया गया है। इससे रेलवे को हर माह लगभग तीन लाख रुपए की बचत होने लगी है। इसके साथ ही भीषण हादसों पर भी रोक लग सकती है।

एक दिन में आठ हजार कपड़े धुलकर होते हैं तैयार
रेलवे की लाउंड्री का शुभारंभ 3 नबंवर 2016 को हुआ था। उसके बाद से अब तक लाउंड्री में दिनोंदिन ट्रेनों के धुलने वाले कपड़े बढ़ते ही गए है। वर्तमान में प्रतिदिन चार हजार चादर, दो हजार पिलो कवर और दो हजार टॉबिल धुलकर तैयार हो रहे हैं।

यह है फायदा
लाउंड्री में पीएनजी गैस के उपयोग से कई फायदे है। यह सुरक्षित होने के साथ- साथ पर्यावरणानुकूल सुविधाजनक व आर्थिक रूप से लाभदायक भी हैै। साथ ही पर्यावरण में भी 84 प्रतिशत कार्बन मोनोडाईआक्साइड, 58 प्रतिशत नाइट्रोजन ऑक्साइड आदि की कमी आएगी। इस लाउंड्री में भविष्य में सोलर पैनल तथा ईटीपी प्लांट लगाने का कार्य प्रस्तावित है।

झांसी से आता था डीजल
लाउंड्री के लिए डीजल अभी झांसी से आता है। इसमें अब गैस की फिटिंग होने से परिवहन के खर्चे के साथ अन्य खर्च और परेशानी भी बच गई है। साथ ही अब यहां पर काम करने वाले लोग भी सुरक्षित है।

लाउंड्री में बॉयलर चलाने के लिए अभी तक डीजल का उपयोग होता था, लेकिन अब गैस से इसका संचालन होने से काफी फायदा मिला है। इसके साथ ही रेलवे का प्रतिमाह लगभग तीन लाख रुपए का खर्चा भी बचेगी।
मनोज कुमार सिंह,पीआरओ झांसी मंडल

Updated On:
20 Apr 2019, 01:41:27 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।