सावधान : शहर में घूम रही हैं नकली पुलिस, आपके साथ भी हो सकती है ठगी

By: monu sahu

Updated On: 25 Aug 2019, 12:33:59 PM IST

  • खुद को एएसआइ शर्मा बताकर की ठगी, घर जाकर कागज खोला तो निकले पत्थर

ग्वालियर। पुलिसवाले बनकर ठगों ने डेयरी संचालक को रास्ते में रोक लिया। उनसे बोले आगे नशेडिय़ों ने वारदात कर दी है, इसलिए रास्ता बंद है। आगे जाना है तो चेन और अंगूठी उतार दो। उन्होंने संचालक पर विश्वास में लाने के लिए एक युवक को रोका और उसकी चेन उतरवा ली, वह युवक उनके गिरोह का सदस्य था, लेकिन संचालक इस बात से अंजान थे। यह देखकर संचालक ने भी चेन और अंगूठी उतार दी।

यह भी पढ़ें : देश के टॉप संस्थान के हॉस्टल में मिली ऐसी चीजें, जिसे देख गुस्साए छात्र और जमकर मचाया हंगामा

ठगों ने उनसे जेवर लिए और कागज की पुडिय़ा में रख दिए। इसके बाद संचालक घर पहुंचे। पुडिय़ा खोलकर देखी तो उसमें पत्थर निकले। तब समझ में आया कि ठगी हो गई। फिर मौके पर गए उन ठगों को ढूंढा लेकिन पता नहीं लगा। इसके बाद बहोड़ापुर थाने जाकर मामला दर्ज कराया। पुलिस के मुताबिक दुर्गा विहार कॉलोनी निवासी दीवान सिंह तोमर (65) के साथ ठगी हुई। दीवान सिंह का डेयरी का काम है।

यह भी पढ़ें : प्यार में कोई तकरार है तो फिर आ जाइए यहां, टूटे दिल भी जुड़ जाते हैं यहां, कुछ ऐसी है ये जगह

उन्होंने बताया सुबह 9.30 बजे संत कृपाल के आश्रम जा रहे थे। तभी सेन्ट्रल जेल रोड पुलिस पेट्रोल पंप के पास बाइक सवार दो युवकों ने उन्हें रोक लिया। उनमे से एक बोला हमें पहचाना कि नहीं। मैं एएसआइ शर्मा हूं। अखबार नहीं पढ़ते शहर में लूटपाट हो रही है और आप चेन और अंगूठी पहनकर जा रहे हो। इसलिए इन्हें उतारकर रख लो। उस वक्त तो दीवान ने उनकी बातों पर ध्यान नहीं दिया और आगे चल दिए। लेकिन एटीएम तिराहा के पास आकर उन्होंने फिर रोक लिया और बोले आपको समझाया फिर भी समझ मे नहीं आ रहा है। तभी एक युवक वहां से निकला।

यह भी पढ़ें : प्रदेश के इस मंदिर में करोड़ों के गहने पहनते हैं राधा-कृष्ण, लाखों की संख्या में आते है भक्त

उन बदमाशों ने उसे रोका उससे बोले आगे वारदात हो गई है इसलिए चेन उतार दो। उसने चेन उतारकर दे दी। फिर बुजुर्ग से जेवर उतारने को कहा। बुजुर्ग को लगा सही कह रहे हैं और उन्होंने अपनी चेन और अंगूठी करीब दो तोला की उतार दीं। बदमाशें ने बिना देर किए जेवर उनसे लिए और एक कागज में रखकर उन्हें पकड़ा दिए। लेकिन कागज में जेवर नहीं बल्कि मु_ी मे रखे पत्थर रख दिए थे।

Fake police is roaming in gwalior city

सीसीटीवी में ठगों की तलाश
घर जाकर दीवान ने कागज की पुडिय़ा बेटे अनिल को दी और पूरी बात बताकर अलमारी में रखने को कहा। बेटा समझ गया कि उन्हें ठग लिया है। पुडिय़ा खोली तो पत्थर थे, फिर उस जगह पहुंचा जहां ठगी हुई। मामले की सूचना पुलिस को दी गई, इसके बाद हॉस्पिटल और अन्य जगहों पर सीसीटीवी के फुटेज देखे।

 

बाइक से आए थे
दीवान सिंह का कहना है बदमाश बाइक पर थे। उन्होंने खुद को बहोड़ापुर थाने का एएसआइ शर्मा बताया। बात इतनी दबंगाई से की कि उन्हें लगा कि पुलिसवाले ही हैं। वह दो लोग थे, जिनमें एक मोटा था और उसकी उम्र करीब 30 से 35 के बीच की होगी।

 

कई लोगों को ठगा
पुलिसवाले बनकर ठगी करने की यह पहली वारदात नहीं है। इससे पहले भी कई बार ठग बुजुर्ग महिलाओं से जेवर ठग चुके है। इंदरगज इलाके में एक महिला से जेवर उतरवाए थे। जबकि जनकगंज इलाके में एक पुलिस अधिकारी की रिश्तेदार महिला से भी जेवर ठगे थे। इसके अलावा सराफा बाजार में भी कई वारदात हो चुकी हैं।

Updated On:
25 Aug 2019, 12:33:58 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।