सऊदी अरब में मादक पदार्थ की तस्करी के आरोप में पाकिस्तानी जोड़े को फांसी

By: Mohit Saxena

Updated On: Apr, 14 2019 04:49 PM IST

    • शरिया कानून के तहत मृत्युदंड की सजा दी गई
    • मामले को सुप्रीम कोर्ट में भी भेजा गया था
    • कोर्ट ने कानून को लागू करने के लिए एक शाही आदेश जारी किया

नई दिल्ली। सऊदी अरब ने गुरुवार को हेरोइन की तस्करी को लेकर एक पाकिस्तानी जोड़े को मृत्यु दंड की सजा दी है। गुरुवार को सऊदी के आंतरिक मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, फातिमा एजाज़ और उनके पति मुस्तफा मुहम्मद को "मादक पदार्थों की तस्करी" के बाद दोषी ठहराया गया था। शरिया कानून के तहत उन्हें मृत्युदंड की सजा दी गई। मामले को एक अपीलीय अदालत और फिर सुप्रीम कोर्ट में भेजा गया था। दोनों अदालतें मौत की सजा के "पक्ष में फैसला" करती हैं। शीर्ष अदालत ने तब "कानून में तय किए गए कानून को लागू करने के लिए एक शाही आदेश जारी किया"। इस जोड़े को जेद्दाह प्रांत में ढाबन जेल में मार दिया गया।

यौन उत्पीड़न का शिकार हुईं पाक मूल की ब्रिटिश सांसद, बस में उनके सामने ही एक शख्स करने लगा गंदा काम

दूसरी बार किसी पाकिस्तानी को फांसी सजा सुनाई गई

सऊदी में 2014 के बाद कथित तौर पर एक पाकिस्तानी महिला की यह दूसरी फांसी है। “आंतरिक मंत्रालय ने जनता को दो पवित्र मस्जिदों के कस्टोडियन की सरकार की सभी प्रकार की दवाओं के खिलाफ लड़ने की घोषणा की, क्योंकि यह व्यक्ति और समाज को गंभीर नुकसान पहुंचाता है, और सबसे गंभीर दंड लागू करता है।

मृत्युदंड की आलोचना

सऊदी सरकार ने मादक पदार्थों की तस्करी सहित अहिंसक अपराधों के लिए मौत की सजा को लागू करने की तीखी आलोचना हो रही है। पिछले साल अप्रैल में, क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने मीडिया को को बताया कि सरकार बड़े समय से मौत की सजा से लेकर आजीवन कारावास तक बदलने की दिशा में काम कर रही थी।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

Published On:
Apr, 14 2019 04:47 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।