बड़ा दाव: भाजपा ने लोकसभा चुनाव 2019 में जीत के लिए अपनाया यह हथकंडा

By: Virendra Kumar Sharma

Updated On:
08 Oct 2018, 08:35:52 AM IST

  • लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर भाजपा सजग हो गई है। जीत के लिए नए नए हथकंडे अब भाजपा ने अपनाने शुरू कर दिए है।

नोएडा. लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर भाजपा सजग हो गई है। जीत के लिए नए नए हथकंडे अब भाजपा ने अपनाने शुरू कर दिए है। एक तरफ जहां भाजपा राम मंदिर के जरिए अध्यात्म का सहारा ले रही है। वहीं संसदीय सीट के चुनाव में विधानसभा क्षेत्रों की महत्वपूर्ण भूमिका मान रही है। भाजपा ने चुनाव में जीतने के लिए जिम्मेदारी विधायकों की भी तय की है। ताकि विधायकों की तरफ से किए गए कार्यो तक जनता के बीच में पहुंचा जा सके और 2019 में अपनी जीत सुनिश्चित की जा सके। यहीं वजह है कि जनता के बीच में जाकर भाजपा विधायक और जनप्रतिनिधि केंद्र व राज्य सरकार की तरफ से किए गए कार्यो का महिमा मंडन करने में जुटे है।

यह भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: मायावती की इस सीट से सपा ने किया प्रत्याशी तय!

2014 में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने यूपी में बड़ी जीत हासिल की थी। यूपी में भाजपा ने सहयोगी दल के साथ में 73 सीट हासिल की थी। भाजपा अब यूपी में 73 प्लस के एजेंडे पर कार्य कर रही है। उधर, मेरठ में हुए भाजपा सम्मेलन में अमित शाह नेे यूपी में 73 प्लस सीट हासिल करने के लिए कार्य करने के लिए विधायक, सांसद व जनप्रतिनिधियों से कहा था। उस दौरान अमित शाह ने जनता के बीच में जाकर लोगोंं की समस्याओं का हल कराने के लिए भी कहा था। यहीं वजह है कि विधायक अब सीधे जनता के बीच में जाकर संवाद करने में जुटे है।

दरअसल में यूपी में हुए उपचुनाव में भाजपा को करारी शिकस्त झेलनी पड़ी है। कैराना और नूरपुर में हुए उपचुनाव में भाजपा को पटखनी देकर विपक्षी पार्टियों ने दमखम दिखाया है। वहीं भाजपा की बैचेनी बढ़ गई थी। 2019 लोकसभा चुनाव करीब है। ऐसे में अब भाजपा ने राममंदिर और विकास का एक बार फिर से नारा बुलंद कर रही है। भाजपा विधायकों के जरिए यूपी में पेठ बनाने में अब जूुटी है। भाजपा नेताओं की माने तो किसी भी संसदीय सीट पर विधायक की भूमिका अहम होती है। जिससे देखते हुए विधायक जनता के बीच में जाकर अपनी उपलब्धियां और लक्ष्य का बखान करने में जुटे है।

ये निभा रहे है अपनी भूमिका

यूपी के विकास में नोएडा की अहम भूमिका है। गौतमबुद्धनगर यूपी का आर्थिक जिला है। यहीं वजह है कि इस सीट पर नेताओं की नजर है। दादरी विधायक तेजपाल नागर और जेवर विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह पार्टी हाईकमान की तरफ से निर्देश मिलने पर जनता के बीच जा रहे है। विधानसभा क्षेत्र से वर्ष 2017 में चुने गए विधायकों का कार्यकाल डेढ़ साल का हुआ है। 2019 का लोकसभा चुनाव सामने हैं। इनके प्रदर्शन जांचने-परखने के लिए उनके कार्यों पर जनता की निगाहें हैं। दादरी के विधायक तेजपाल नागर का लक्ष्य जिले में स्थापित उद्योगों में स्थानीय युवाओं के लिए 40 प्रतिशत आरक्षण दिलाने का है। वहीं जेवर के विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह के सामने जेवर एयरपोर्ट के निर्माण में आने वाली बाधाओं को दूर करना है। ठाकुर धीरेंद्र सिंह ने बताया कि अभी किसान जमीन देने को तैयार नहीं थे। लेकिन जनता को जेवर एयरपोर्ट से किसान व क्षेत्र के होने वाले विकास के बारे में अवगत कराकर कागजी रुप से सहमति हासिल की। इस दौरान किसान परिवार को नौकरी, नए बसेरे का इंतजाम और मुआवजा संबंधी बाधाओं को दूर किया है। विधायकों की तरफ से किए गए कार्यो के जरिए भी भाजपा जनता के बीच में जा रही है।

यह भी पढ़ें: उत्‍तर प्रदेश की यह सरकारी अधिकारी बनी मिसेज यूपी

Updated On:
08 Oct 2018, 08:35:52 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।