केवल 3 रुपए से ऐसे सुरक्षित करें अपना बैंक अकाउंट, जानिए पूरा मामला

By: Manish Ranjan

Published On:
Sep, 08 2018 06:48 PM IST

  • आज के तकनीक की दुनिया ने जहां लोगों को कई तरह की सुविधा मुहैया कराई है। वहीं इस तकनीक का खामियाजा भी लोगों को भुगतना पड़ा है।

नई दिल्ली। आज के तकनीक की दुनिया ने जहां लोगों को कई तरह की सुविधा मुहैया कराई है। वहीं इस तकनीक का खामियाजा भी लोगों को भुगतना पड़ा है। खासकर बैंकिंग सेक्टर में आए दिन लगातार कोई न कोई ऐसी घटना हो रही है, जिसके चलते लोगों को करोड़ों की चपत लग रही है। इसकी वजह से लोगों के लिएसाइबर सिक्योरिटी जरूरी हो गई है। अगर आप भी अपने पैसों को सिक्योर करना चाहते हैं तो अब आप ले सकते हैं ये खास इंश्योरेंस पॉलिसी। एचडीएफसी एर्गो ने एक साइबरइंश्योरेंस पॉलिसी लांच की है। इसमें 50,000 रुपये का बीमा रोजाना तीन रुपये खर्च कर लिया जा सकता है।

ऐसे मिलेगी सुरक्षा

इस पॉलिसी के तहत आपको हर वो सुरक्षा मिलेगी जिससे आपका खाता सुरक्षित रहे। वो भी केवल 3 रुपए में। जिनमें फर्जी ऑनलाइन ट्रांजेक्शन, फिशिंग और ईमेल स्पूफिंग, ई-एक्सटॉर्शन, पहचान की चोरी (आइडेंटिटी थेफ्ट) और साइबर बुलिंग शामिल हैं। एचडीएफसी एर्गो की यह साइबर इंश्योरेंस पॉलिसी आम लोगों और उनके परिवार को साइबर फ्रॉड, डिजिटल धमकी या साइबर अटैक की वजह से होने वाले वित्तीय/छवि को नुकसान से भी कवर करती है।

लगातार बढ़ रही है ऐसी घटनाएं

साइबर सुरक्षा को लेकर नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट मुताबिक, साल 2016 में देश में साइबर क्राइम की घटनाओं में 6.3 फीसदी की वृद्धि हुई है। साल 2015 में जहां देश में साइबर अपराध के 11,592 मामले दर्ज किये गए, वहीं साल 2016 में इस तरह के मामलों की संख्या बढ़कर 12,317 पर पहुंच गयी। आपको बता दें कि ऑनलाइन कारोबार के मामले में भारत दुनिया का दूसरा प्रमुख बाजार है। यहां साइबर इंश्योरेंस कारोबार में विस्तार की अपार संभावनाएं हैं। साइबर जोखिम और धोखाधड़ी की घटनाओं में तेजी से वृद्धि हुई है और इस हिसाब से इनका प्रबंधन चुनौती भरा काम है इसिलए इसपर खासा ध्यान देने की जरुरत है।

Published On:
Sep, 08 2018 06:48 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।