General Knowledge - कॉम्पीटिशन एग्जाम में पूछे जाते हैं ये सवाल, जानिए इनके उत्तर

By: Sunil Sharma

Published On:
Mar, 03 2019 04:02 PM IST

  • आम तौर पर कुछ प्रश्न ऐसे होते हैं जो लगभग सभी कॉम्पीटिशन एग्जाम्स में पूछे जाते हैं। ये सवाल हमारे आम जीवन से तो सीधे जुड़े नहीं होते परन्तु राष्ट्रीय तथा अन्तरराष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में बहुत ज्यादा महत्व रखते हैं।

आम तौर पर कुछ प्रश्न ऐसे होते हैं जो लगभग सभी कॉम्पीटिशन एग्जाम्स में पूछे जाते हैं। ये सवाल हमारे आम जीवन से तो सीधे जुड़े नहीं होते परन्तु राष्ट्रीय तथा अन्तरराष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में बहुत ज्यादा महत्व रखते हैं। जानिए ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब-

प्रश्न (1) - अविश्वास और विश्वास मत क्या है?
संसदीय अविश्वास प्रस्ताव का उद्देश्य सरकार को पराजित करना होता है। यह प्रस्ताव विपक्ष लाता है। इसके विपरीत विश्वास का मत प्राय: सरकार के गठन के बाद पेश किया जाता है। इसे सत्तापक्ष लाता है। ब्रिटिश संसद में सम्राट के और भारतीय संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर वोट भी विश्वास मत की तरह है। उसमें किसी प्रकार का संशोधन सरकार को गिराने जैसा होता है। जब संसद अविश्वास प्रस्ताव पास करे या सरकार विश्वास मत हासिल करने में विफल रहती है, तो उसे इस्तीफा देना चाहिए। इसके अलावा सदन को भंग करने और आम चुनाव कराने का अनुरोध भी सरकार कर सकती है। इस अनुरोध पर फैसला परिस्थितियों पर निर्भर करता है।

यदि दूसरा पक्ष सरकार बनाने की स्थिति में हो तो उसे सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया जा सकता है। यदि सत्तापक्ष बहुमत में है और फिर भी वह संसद को भंग करने का अनुरोध करे तो सम्राट या राष्ट्रपति उसे स्वीकार कर लेते हैं। संसदीय प्रणाली में सरकार खुद इस्तीफा देने का फैसला करे या मजबूर हो तो सम्राट विरोधी दल से पूछते हैं कि क्या वह सरकार बनाने के लिए तैयार है। भारत में भी यही व्यवस्था है।

प्रश्न (2) - वेस्टमिंस्टर प्रणाली से क्या अभिप्राय है?
शासन की संसदीय प्रणाली। इसे यह नाम लंदन के पैलेस ऑफ वेस्टमिंस्टर के कारण दिया गया है, जो ब्रिटिश संसद का सभास्थल है। सिटी ऑफ वेस्टमिंस्टर लंदन का इलाका है, जो टेम्स नदी के किनारे है। यह इमारत एक शाही महल है। पहला शाही महल 11वीं सदी में बनाया गया था। 1512 में आग से नष्ट होने से पहले वेस्टमिंस्टर पैलेस सम्राट का लंदन निवास होता था। इसके बाद से इसे संसद भवन मान लिया गया। 13वीं सदी में यहां संसद की सभाएं होने लगी थीं। इस भवन में 1834 फिर भयानक में आग लगी। सन् 1840 में इसका पुनर्निर्माण शुरू हुआ,जो 30 साल तक चला। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान 1941 में लंदन पर हुई बमबारी में भी इस इमारत को नुकसान पहुंचा। इसकी एक पहचान है क्लॉक टॉवर, जिसका विशाल घंटा बिग बेन के नाम से प्रसिद्ध है। सन् 1987 से यह इमारत यूनेस्को के विश्व धरोहर स्थलों का हिस्सा है।

प्रश्न (3) - बिग बेन क्या है?
बिग बेन विशाल घंटे का नाम है और उस क्लॉक टावर का भी, जिसमें यह घंटा लगा है। सन् 2012 में महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की हीरक जयंती के मौके पर इस घंटाघर का नाम एलिजाबेथ टावर रख दिया गया। इस टावर का डिजाइन ऑगस्टस प्यूजिन ने तैयार किया था। इसका निर्माण 1859 में पूरा हुआ। उस वक्त यह दुनिया की सबसे बड़ी और सबसे सही समय देने वाली क्लॉक टावर मानी गई। यह टावर 315 फुट ऊंची है और इसमें सबसे ऊपर तक जाने के लिए बनी सीढ़ी के 334 पायदान हैं। इस घड़ी की सूइयों का व्यास 23 फुट का है। 31 मई 2009 को इस घड़ी की 150वीं जयंती मनाई गई थी।

Published On:
Mar, 03 2019 04:02 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।