आम जनता पर महंगाई की दोहरी मार, Retail Inflation के बाद Wholesale Inflation में भी इजाफा

By: Saurabh Sharma

|

Updated: 14 Jul 2020, 05:34 PM IST

अर्थव्‍यवस्‍था

नई दिल्ली। आम जनता को कोरोना वायरस अनलॉक में बड़े झटके लग रहे हैं। अब महंगाई को आम जनता को दोगुना झटका लगा है। सोमवार को खुदरा महंगाई बढऩे के बाद अब मंगलवार को थोक महंगाई के दर में भी इजाफा हो गया है। खास बात तो ये है कि जानकारों की ओर से महंगाई बढऩे का जितना अनुमान लगाया था उससे कहीं ज्यादा बढ़ी है। आपको बता दें कि खुदरा महंगाई दर भी अनुमान से ज्यादा बढ़ी है। आइए आपको भी बताते हैं कि सरकार की ओर से किस तरह के आंकड़े पेश किए गए हैं।

थोक महंगाई दर में हुआ इजाफा
सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार जून के महीने में थोक महंगाई दर-1.81 फीसदी हो गई है, जबकि मई में थोक महंगाई दर बढ़ी है। जून में थोक महंगाई दर मई के -3.21 फीसदी देखने को मिली थी। जबकि जानकररों की ओर से जून में थोक महंगाई दर -2.4 फीसदी रहने का अनुमान लगाया था। वहीं जून में थोक खाद्य महंगाई में भी इजाफा हुआ है, जो मई के 2.31 फीसदी के मुकाबले जून में 3.05 फीसदी हो गई है। जून में प्राथमिक उत्पादों को थोक महंगाई मई में -2.92 फीसदी थी जो कि जून में बढ़कर -1.21 फीसदी हो गई है।

इनमें भी हुआ इजाफा
- जून में फ्यूल और पॉवर थोक महंगाई -13.60 फीसदी हुई जबकि जून यह आंकड़ां -19.83 फीसदी था।
- सब्जियों की थोक महंगाई -9.21 फीसदी हुई जबकि मई में यह -12.48 फीसदी थी।
- आलू में महंगाई दर 56.20 फीसदी बढ़ी जबकि मई में यह ङ्खक्कढ्ढ मई के 52.25 फीसदी थी।
- प्याज की थोक महंगाई दर में राहत देखने को मिली, मई के 6.26 फीसदी के मुकाबले जून में -15.27 फीसदी पर आ गई।
- दूध की थोक महंगाई में गिरावट देखने को मिली, जो मई के 5.44 फीसदी के मुकाबले 4.05 फीसदी पर आ गई है।
- अंडे, मीट, मछली की थोक महंगाई दर बढ़कर4.45 फीसदी पर आई जबकि मई के महीने में 1.94 फीसदी पर आ गई थी।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।