मिर्गी समेत इन 10 बीमारियों के इलाज में फायदेमंद है कटेरी

By: Soma Roy

Updated On: 25 Aug 2019, 05:44:28 PM IST

    • Herbal medicine : गर्भावस्था के दौरान जी मिचलाने पर कटेरी का सेवन फायदेमंद
    • दांत दर्द होने पर कटेरी के पत्तों को पीसकर प्रभावित जगह पर लगाएं

नई दिल्ली। आजकल ज्यादातर लोग किसी न किसी बीमारी से परेशान है। इसके लिए घरेलू नुस्खे बेहद कारगर हो सकते हैं। इससे न सिर्फ आप सेहतमंद रहेंगे, बल्कि देखने में भी आकर्षक लगेंगे। आयुर्वेद में कटेरी नामक जड़ी बूटी को बहुत फायदेमंद बताया गया है। इसके उपयोग से मिर्गी, जी मिचलाना, बाल टूटना आदि समस्याएं चुटकियों में दूर हो जाती हैं। तो कैसे करें इसका प्रयोग आइए जानते हैं।

1.कटेरी के ताजा पत्‍तों का रस निकालें और इसे अपने बालों की जड़ों पर लगाएं। नियमित रूप से कुछ दिनों तक करने से बालों का झड़ना बंद हो जाएगा।

2.कटेरी की ताजा पत्तियों को मसलकर रस निकालें। इस रस को दर्द प्रभावित दांतों में लगाएं। इससे दांतों का दर्द गायब हो जाएगा।

3.जिन लोगों को मिर्गी की बीमारी है। उन्हें कटेरी के रस की 2 बूंद नियमित रूप से सुबह अपने नथुनों में डालें। ऐसा करने से रोगी को मिर्गी के दौरे आने की संभावना कम हो जाती है।

4.कटेरी के पूरे पौधे या पंचांग की 3-5 ग्राम मात्रा लें और इसे 200 मिली ग्राम पानी में उबालें। उबलते हुए पानी की मात्रा लगभग 50 मिली ग्राम बचे तब तक इसे उबालते रहें। इसके बाद इस काढ़े को ठंडा करें और दिन में 2 बार इसका सेवन करें। इससे सर्दी-जुकाम ठीक हो जाएगा।

5.लीवर को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए कटेरी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। नियमित रूप से कटेरी के काढ़े का सेवन लीवर में मौजूद संक्रमण और सूजन को कम करने में मदद करता है।

mirgi.jpg

6.गर्भावस्‍था के दौरान उल्‍टी और मतली को रोकने के लिए कटेरी पंचांग (5 ग्राम) और मुनक्‍का (5-6) लें और इसे पानी में उबालकर काढ़ा बना लें। इस काढ़े का नियमित रूप से पिएं।

7.किसी को अस्थमा की शिकायत है तो उन्हें कटेरी के पत्तियों का काढ़ा पीना चाहिए। इससे श्वांस नली की ब्लॉकेज खुलेगी।

9.वायरल बुखार में भी कटेरी के पत्तों के रस का सेवन फायदेमंद होता है।

10.जिन लोगों को शारीरिक तौर पर कमजोरी लगती है उन्हें दिन में दो बार कटेरी के ताजे पत्तों का रस पीना चाहिए। आप चाहे तो मिश्री मिलाकर इसे उपयोग कर सकते हैं।

Updated On:
25 Aug 2019, 05:43:51 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।