कालाष्टमी विशेष : आज के दिन भूलकर भी न करें भगवान शिव की पूजा, ​भुगतने पड़ सकते हैं अशुभ परिणाम

By: Soma Roy

Updated On: Apr, 26 2019 12:36 PM IST

    • कालाष्टमी के दिन शिव जी ने धारण किया था काल भैरव का रूप
    • ब्रम्हा जी और विष्णु भगवान में श्रेष्ठता साबित करने के लिए हुई थी बहस

नई दिल्ली। कृष्णपक्ष की अष्टमी तिथि कालाष्टमी कहलाती है। इस दिन भैरव बाबा की पूजा की जाती है। इस दिन फलाहारी व्रत रखने से जातक को सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। मगर आज के दिन काल भैरव की पूजा करते समय कुछ सावधानियां भी बरतनी चाहिए, वरना आप उनके प्रकोप का शिकार हो सकते हैं।

शुक्रवार को पीले कपड़े में नारियल बांधकर करें ये उपाय, जल्द बन जाएंगे करोड़पति

1. शिव पुराण के अनुसार कालाष्टमी के दिन कभी भी भगवान शिव की पूजा न करें। क्योंकि इस दिन भोलेनाथ रौद्र रूप में होते हैं।

2.हिंदू शास्त्रों के मुताबिक एक दिन भगवान ब्रह्मा और विष्णु के बीच श्रेष्ठता को लेकर विवाद हो गया था। तभी सभी देवताओं और मुनि की सहमति से शिव जी को श्रेष्ठ माना जाता है। मगर ब्रम्ह देव को इसमें आपत्ति होती है। उनके विरोध करने से शिव जी भी क्राधित हो जाते हैं और गुस्से में वे काल भैरव का रूप धारण कर लेते हैं।

3.कहा जाता है कि कालाष्टमी के दिन शिव जी की पूजा करने से व्यक्ति का मन अशांत हो सकता है। इससे उन्हें गुस्सा आ सकता है।

4.कालाष्टमी के दिन भूलकर भी नशा न करें। ऐसा करने से काल भैरव नाराज होते हैं। हालांकि कई जगह भैरव जी को प्रसन्न करने के लिए मदिरा चढ़ाई जाती है, लेकिन इसका सेवन करना अशुभ फल लेकर आता है। इससे नकारात्मकता बढ़ती है।

5.आज के दिन कभी बड़ों का अपमान नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से व्यक्ति के जीवन में मुसीबतें आ सकती हैं। साथ ही उसे मेहनत का भी फल मुश्किल से ही मिल पाएगा।

अक्षय तृतीया विशेष : राशिनुसार करें इन चीजों की खरीदारी, मां लक्ष्मी की होगी कृपा

6.कालाष्टमी के दिन अन्न भी नहीं खाना चाहिए। क्योंकि ये गरिष्ठ भोजन होता है और इससे व्यक्ति में आलस आ सकता है।

7.जो लोग आज के दिन दूसरों का अपमान करते हैं उन्हें काल भैरव कभी क्षमा नहीं करते हैं। ऐसा करने से व्यक्ति को ग्रहों के नकारात्मक प्रभाव झेलने पड़ सकते हैं।

8.कालाष्टमी व्रत के दिन दूसरों से उधार नहीं लेना चाहिए। कहते हैं कि ऐसा करने से व्यक्ति को हमेशा दूसरों का मोहताज रहना पड़ सकता है।

9.आज के दिन भूलकर भी काले कुत्ते को न मारें। क्योंकि इसे भैरव जी का प्रतीक माना जाता है। ऐसे में इसका अपमान करने से व्यक्ति के जीवन में मुसीबतें आ सकती हैं।

10.कालाष्टमी के दिन पार्वती जी की भी पूजा नहीं करनी चाहिए। क्योंकि देवी शिव की पत्नी हैं। मगर उनके रौद्र रूप के प्रभाव के चलते उनमें भी मां काली का स्वरूप ज्यादा हावी होता है। उनकी पूजा करने से गृहस्थों के जीवन में तनाव आ सकता है।

Published On:
Apr, 26 2019 12:36 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।