सिर दर्द, कमर दर्द, सूजन और सांस की समस्या के लिए फायदेमंद है पान के पत्ते

By: Vikas Gupta

Updated On:
11 Jun 2019, 04:26:09 PM IST

  • आयुर्वेद चिकित्सा में भी इसे बाहरी घाव व पस को भरने और जोड़ों में दर्द की समस्या में राहत पाने के लिए प्रयोग किया जाता है।

कई रोगों के इलाज के लिए पान के पत्तों को काफी समय से इस्तेमाल में लिया जा रहा है। आयुर्वेद चिकित्सा में भी इसे बाहरी घाव व पस को भरने और जोड़ों में दर्द की समस्या में राहत पाने के लिए प्रयोग किया जाता है।

सूजन करे दूर : गठिया या जोड़ों में सूजन की दिक्कत होने पर पान के पत्तों को बाहरी रूप से लगाएं। अरंडी के तेल को फोड़े पर लगाकर हल्के गर्म पान के पत्तों को उस जगह पर रखने से पस बाहर निकल आता है।

कमर दर्द में राहत : पान के पत्तों को गर्म कर पीसकर या उसके रस के साथ नारियल या अन्य तेल को मिलाकर कमर पर लगाना फायदेमंद होता है।

सांस लेने में तकलीफ : सरसों के तेल में भीगे व गर्म किए हुए पान के दो पत्तों को 10 मिनट के लिए सीने पर रखें। खांसी व सांस से जुड़ी दिक्कतों में लाभ होगा।

सिरदर्द में आराम : पत्तों की तासीर ठंडी होने के कारण यह दिमाग की गर्मी शांत करते हैं जिससे सिरदर्द में भी लाभ होता है।

Updated On:
11 Jun 2019, 04:26:09 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।