जहां घडिय़ाल, वहीं अवैध बजरी खनन ..देखें तस्वीरों में
धौलपुर. वैसे तो उच्चतम न्यायालय ने राजस्थान-मध्यप्रदेश की सीमा स्थित धौलपुर से गुजर रही चम्बल नदी में मौजूद घडिय़ालों के संरक्षण के लिए बजरी खनन पर रोक लगा रखी है, लेकिन पुलिस-प्रशासन व वन विभाग के तमाम प्रयास विफल नजर आ रहे हैं। गंभीर बात तो यह है कि चम्बल नदी के किनारे मध्यप्रदेश की सीमा में जहां अधिक घडिय़ाल रहते हैं, वहीं पर अवैध बजरी खनन जोरों पर हैं। ऐसा नहीं है अवैध बजरी खनन चोरी-छिपे हो रहा हो। नदी किनारे रोज 300 से 400 ट्रेक्टर बजरी भरकर ले जाते हैं। फिर इसका खेतों में स्टाक करते हैं। इसके बाद ट्रकों में भर कर ऊंचे दामों में उत्तरप्रदेश के आगरा, मथुरा आदि शहरों में बेचते हैं। उल्लेखनीय है कि धौलपुर की सीमा से गुजर चम्बल नदी में सैकड़ों की संख्या में घडिय़ाल पाए जाते हैं मध्य प्रदेश की सीमा में नेशनल हाइवे नंबर 3 के किनारे दिन दहाड़े अवैध बजरी का खनन करते माफिया बिल्कुल वेखोफ नजर आते हैं।
फोटो स्टोरी -नरेश लवानियां

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।