मातमी धुनों के बीच ताजिए हुए सुपुर्द-ए-खाक देखें तस्वीरें
धौलपुर. जिले में मुस्लिम समुदाय की ओर से मंगलवार को मोहर्रम पर ताजियों के साथ मातमी जुलूस निकाला गया। इस दौरान जुलूस को देखने के लिए बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ पड़ी। शहर में ताजिए के जुलूस बजरिया से शुरू होकर संतर रोड, सब्जी मण्डी, लाल बाजार, हलवाई खाना, मोदी तिराहा, तलैया और घंटाघर रोड होते हुए करबला पर पहुंचे। वहां ताजियों को सुपुर्द ए खाक किया गया। शहर में जुलूस के रास्ते में साज-सज्जा की गई। समाज के वरिष्ठ लोगों ने बताया कि पैगम्बर मोहम्मद साहब के नवासे हजरत इमाम हसन व हुसैन मोहर्रम के दिन ही इस्लाम की रक्षा के लिए करबला के मैदान में शहीद हुए थे। उनकी शहादत की याद में ही मोहर्रम मनाया जाता है। इस अवसर पर बाजारों में मुस्लिम समुदाय की ओर से बच्चों के लिए पेय, नाश्ता व अन्य खान पान की सामग्री की व्यवस्था की गई। जुलूस विभिन्न बाजारों से होता हुआ शाम करबला पहुंचा। जुलूस में समाज के सैकड़ों की संख्या में महिला व पुरुष उपस्थित थे।
शिया समुदाए ने निकाले ताजिए
हजरत इमाम हुसैन की याद में शिया मुस्लिम समाज ने बाड़ा कुमेदान साहब से ताजियों का जुलूस कचहरी इमाम बारगाह व तिवरिया इमाम बारगाह से शुरू हुआ।
ताजियों के जुलूस में शिया मुस्लिम समाज ने मरसियाखानी व नौहाखानी करते हुए जंजीरों का मातम किया। ताजियों का जुलूस तोप तिराहा, संतर रोड, बस स्टैंन्ड, जीटी रोड, गुलाब बाग चौराहा होता हुआ शिया करबला पहुंचा। शिया करबला में ताजियों को सुपुर्द ए खाक किया गया। इससे पूर्व रात को बाड़ा कुमेदान साहब में शिया समुदाय ने मातम मनाया।

फ़ोटो नरेश लवानियां

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।