विधायक ने कई गांवों में घुमकर जानी लोगों की समस्याएं

By: Amit S mandloi

Updated On:
24 Aug 2019, 12:31:00 PM IST

  • कई लोगों ने मुआवजा नहीं मिलने की शिकायत दर्ज कराई

मनावर. विधायक डॉ हीरालाल अलावा शुक्रवार को सरदार सरोवर बांध से प्रभावित गांव एकलबारा, कवठी, गांगली क्षेत्र का दौरा किया । डूब प्रभावितों व बैक वाटर घुसने से ग्रामीण किसानों के खेत पहुंच मार्ग डूब जाने तथा मकान व कृषि भूमि डूब में आने वाले प्रभावित किसानों को मुआवजा नहीं मिलने की शिकायतें प्रभावितों द्वारा की गई ।

डॉ अलावा ने मौके की स्थिति देखी और आश्वासन दिया कि आपके अधिकारों की लडाई मैं लडूंगा।
डूब प्रभावितों का कहना था कि आज भी नर्मदा जल विवाद न्यायाधिकरण के फैसले , राज्य की पुनर्वास नीति, सर्वोच्च अदालत के 2017 के फैसले, शिकायत निवारण प्राधिकरण के 28 नवम्बर 2017 के फैसले अनुसार संपूर्ण पुनर्वास नहीं हो पाया है तथा पुनर्वास स्थलों पर समस्याए जस की तस बनी हुई है।

ग्राम एकलबारा के डूब प्रभावितों ने बताया कि गांव को पहले डूब में माना था लेकिन अभी गांव को डूब से बाहर बता दिया गया है आधे गांव को डूब में माना गया । जिनमें से भी कई परिवारों को 5 लाख 80 हजार का लाभ और घर बनाने के लिए भूखंड मिलना बाकी है । 130 मीटर पानी भरने पर ही गांव के 95 प्रतिशत किसानों को कृषि भूमि पर जाने का रास्ता बंद हो गया है।

इसी तरह ग्राम कवठी के ग्रामीणों ने बताया आज भी गांव के 25 किसान परिवारों को सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार 60-60 लाख की मुआवजा राशि मिलना शेष है अभी डूब ग्राम कवठी मूलगांव में 7 परिवार रह रहे हैं जिनको पुनर्वास पर मकान बना लिया बताकर 5 लाख 80 हजार रुपए मिलने से वंचित कर दिया गया है।

ग्राम गांगली के डूब प्रभावितों ने बताया कि गांव में आज भी 150 परिवार निवासरत है जिनको पुनर्वास का लाभ मिलना बाकी है। 10 परिवारों को 60 -60 लाख और 15 परिवारों को 15 - 15 लाख का मुआवजा मिलना बाकी है ।

विधायक डॉ अलावा ने कहा कि आज भी पुनर्वास स्थलों पर पानी, बिजली, सडक, ड्रेनेज लाइन जैसी मूलभूत सुविधाओं का अभाव है। पिछली भाजपा सरकार ने डूब प्रभावित लोगों के विस्थापन के कार्य में भारी भ्रष्टाचार किया है तथा पूर्व प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की घोषणा अनुसार 5 लाख 80 हजार रुपए की मुआवजा राशि कई लोगों को मिलना शेष है ऐसी स्थिति में केंद्र सरकार और गुजरात सरकार द्वारा 139 मीटर पानी सरदार सरोवर में नहीं भरा जाना चाहिए जब तक सभी डूब प्रभावितों को मुआवजा राशि नहीं मिले।

विधायक ने यह भी कहा कि जिन गांवों को पूर्व में मुआवजा देकर अभी डूब से बाहर कर देने का लेवल भी गलत है और अब डूब से बाहर करने के बाद अब उन गांवों की बिजली काटी जा रही है। डॉक्टर अलावा ने सभी डूब प्रभावितों को आश्वस्त किया कि वे उनके अधिकारों के लिए मुख्यमंत्री से मिलकर इसका समाधान कराएंगे । इस अवसर पर राकेश जाट ,संदीप अग्रवाल एवं नर्मदा बचाओ आंदोलन के रणवीर सिंह तोमर राधेश्याम मण्डलोई, साथ राकेश जाट सिरसी ,संदीप अग्रवाल , रोहित पाटीदार ,प्रकाश कटारे ,राजेंद्र पांचाल ,राधेश्याम मंडलोई ओम पाटीदार आदि उपस्थित थे।

Updated On:
24 Aug 2019, 12:31:00 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।