शहर में आरक्षित रेल टिकटों की कालाबाजारी, एक गिरफ्तार

By: mayur vyas

Updated On:
24 Aug 2019, 12:18:47 PM IST

  • मौके से 07 ई-आरक्षित टिकट बरामद किए गए

देवास. शहर में गर्मी के सीजन के अलावा विभिन्न तीज-त्यौहारों पर आरक्षित ई-रेल टिकटों की कालाबाजारी जमकर की जा रही है। करीब आधा दर्जन ऐसे लोग सक्रिय हैं जो नियम विरुद्ध रिजर्वेशन कर प्रति टिकट 100 से लेकर 500 रुपए तक कमा रहे हैं। सबसे अधिक खेल तत्काल टिकटों में चल रहा है। कालाबाजारी करने वालों की सांठगांठ रेलवे अधिकारियों तक भी है, इसका फायदा उठाकर वो तत्काल टिकट करवाने की गारंटी भी ले रहे हैं।
रेलवे सुरक्षा बल ने एक मामले में कार्रवाई करते हुए एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। एएसआई पदम् सिंह, हेड कांस्टेबल प्रदीप जोशी की टीम ने एबी रोड स्थित पंडया कंप्यूटर सेल्स एंड सर्विसेज पर पहुंची और यहां एक व्यक्ति से रेलवे के ई-आरक्षित टिकटों की कालाबाजारी को लेकर पूछताछ की। उसने अपना नाम संजय पंड्या निवासी विश्वकर्मा नगर देवास बताया। उसके पास ई आरक्षित टिकट बनाने सम्बन्धी कोई भी अधिकार पत्र नहीं था और वो अपनी कुछ पर्सनल आईडी पर रेलवे के ई आरक्षित टिकिट बनाकर बेचता था। इसके बदले 50 रूपए प्रति व्यक्ति अधिक लेता था। मौके से 07 ई-आरक्षित टिकट बरामद किए गए। टिकट सहित एक सीपीयू, एक मोबाइल पुराना व नगद 1100 रूपए को जप्त किये गये। आरपीएफ थाना प्रभारी निलेश सिंह ने बताया 143 रेलवे अधिनियम के तहत मामला पंजीकृत किया गया है। कई ऐसे लोग भी सक्रिय हैं जो अपनी निजी आईडी से स्वयं व परिवार की यात्रा के अलावा अन्य लोगों के टिकट बुक कर रहे हैं और १००-२०० रुपए अतिरिक्त ले रहे हैं। कुछ माह पहले कोतवाली के समीप वाली गली में भी इसी तरह की कार्रवाई करते हुए टिकट, सीपीयू आदि जब्त किए गए थे।

Updated On:
24 Aug 2019, 12:18:47 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।