VIDEO बिखरे कविता के रंग

By: Vineet Sharma

Updated On: 19 Mar 2019, 07:47:14 PM IST

 
  • वनवासियों के सहायतार्थ राष्ट्रीय कवि सम्मेलन आयोजित

सूरत. वनबंधु परिषद की ओर से वनवासियों के सहायतार्थ शनिवार को उधना मगदल्ला रोड स्थित वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय के कन्वेंशन हॉल में राष्ट्रीय कवि सम्मेलन आयोजित किया गया। शुरुआत में आयोजकों ने सभी आमंत्रित मेहमानों का स्वागत किया। इस कड़ी में सभी आमंत्रित कवि भी शामिल रहे। कवि सम्मेलन की शुरुआत में श्रृंगार रस की कवयित्री ममता शर्मा ने सरस्वती वंदना की और भारतमाता का गुणगान किया। इसके बाद उन्होंने होली आई रंग बरसा दे रसिया, होली आई रे...के माध्यम से मौजूदा राज व्यवस्था पर जमकर प्रहार किया। हालांकि मोदी फोबिया से वो भी अपने मुक्तकों को दूसरे कवियों की तरह बाहर नहीं रख पाई। इसके बाद हास्य रस के कवि संदीप शर्मा ने महाराणा प्रताप एवं छत्रपति शिवाजी महाराज की वीरता का बखान करते हुए भगवा ध्वज और राष्ट्रीयता को काव्य रचना की माला में पिरोया।

Updated On:
19 Mar 2019, 07:40:27 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।