भारतीय हाॅकी टीम जूनियर की कप्तानी करेगा यहां का लाल

By: Dheerendra Vikramadittya

Published On:
Jul, 20 2019 12:47 AM IST

    • भारतीय जूनियर हाॅकी टीम के कप्तान (Indian Hockey Junior Team New captain) बनाए गए आदित्य सिंह
    • नैरोबी (Nairobi) में होने वाले इंटरनेशनल टूर्नामेंट (International Hockey tournament) में भाग ले रही भारतीय टीम के कप्तान होंगे आदित्य
    • 22 जुलाई से दो अगस्त तक प्रतियोगिता का आयोजन

गोरखपुर क्षेत्र के युवा पूरे देश में अपनी सफलता का परचम लहरा रहे हैं। अब खेल के क्षेत्र में उपलब्धि हासिल हुई है। यहां के हाॅकी खिलाड़ी आदित्य सिंह( Hockey player Aditya Singh) को भारतीय हाॅकी जूनियर टीम का कप्तान (Indian Hockey Junior team captain)बनाया गया है। जूनियर टीम नैरोबी (nairobi) में होने वाली अंतरराष्ट्रीय हाॅकी प्रतियोगिता (International Hockey tournament) में भाग लेने जा रही है। इंटरनेशनल हाॅकी टूर्नामेंट 22 जुुलाई से दो अगस्त तक आयोजित है।

यह भी पढ़ें- लखनऊ जाने के लिए तीन दिनों तक हाईवे पर मत जाएं, इस विकल्प को चुनें परेशानी से बचे

भारतीय जूनियर हाॅकी टीम के कप्तान बनाए गए आदित्य सिंह( Indian hockey junior team m Captain Aditya Singh) ने हाॅकी की दीक्षा गोरखपुर में ली है। मूल रूप से देवरिया के बरहज क्षेत्र के निवासी आदित्य सिंह एक सामान्य किसान परिवार से हैं। पिता चिंतामणि सिंह किसानी करते हैं जबकि मां मीना देवी गृहणी हैं। आदित्य सिंह का हाॅकी से बचपन से ही लगाव रहा है। किसान पिता भी अपने बच्चों के सपने को पूरा करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। यथा संभव देवरिया में हाॅकी का प्रशिक्षण (Hockey coaching)दिलाया। इसके बाद आदित्य गोरखपुर आ गए। यहां उन्होंने लक्ष्य खेल अकादमी (Lakshya Sports Academy) में कोच शादाब खान (Coach Shadab Khan) से प्रशिक्षण लिया। 2014 में आदित्य का चयन लखनउ के गुरु गोविंद सिंह स्पोर्ट्स काॅलेज( Guru govind singh sports college Lucknow) में हो गया। दो साल बाद 20116 में आदित्य सिंह का चयन नेशनल हाॅकी अकादमी ( National Hockey academy New delhi)नई दिल्ली में हो गया। यहां उनके खेल में और निखार आया और व राष्ट्रीय/अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने लगे। इस बार उनको जूनियर हाॅकी टीम की कमान मिली है।
अपनी माटी के लाल आदित्य सिंह की इस उपलब्धि पर डाॅ.राजेश यादव, डाॅ.त्रिलोक रंजन, प्रेम माया, डाॅ.मुदित आदि ने हर्ष जताया है।

यह भी पढ़ें- जानिए उस मुख्यमंत्री की कहानी जिसने गुरु-शिष्य परंपरा को एक नई उंचाई दी

Published On:
Jul, 20 2019 12:47 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।