वार्ड बढ़े तो विकास भी बढ़ेगा, शहरों की होगी कायाकल्प

By: Gaurav Kumar Khandelwal

Published On:
Jun, 12 2019 07:19 AM IST

  • अधिक लोगों को मिलेगा जन प्रतिनिधि बनने का मौका

दौसा. स्वायत शासन विभाग ने दौसा जिला मुख्यालय स्थित नगरपरिषद, बांदीकुई , लालसोट नगरपालिकाओं के वार्डों का पुर्नगठन कर उनकी संख्या में बढ़ोतरी करने से इन शहरों की कायाकल्प होगी। इन शहरों में जो वार्ड पहले से ही बने हुए थे, उनको अब छोटा करने के बाद वहां के जन प्रतिनिधि भी उनके विकास में ध्यान अधिक दे पाएंगे। इधर ग्राम पंचायत से क्रमोन्नत होकर नगरपालिका बनी महुवा में भी 25 वार्ड गठित कर दिए हैं।

 

 


दौसा नगरपरिषद में 40 वार्ड थे, लेकिन अब इन स्वायत शासन विभाग ने 2011 की जनगणना के आधार पर इनकी संख्या 55 कर दी है। विभाग ने वार्डों की संख्या में ही बढ़ोतरी की है न कि नगरपरिषद की सीमा बढ़ाई है। यानि अब वार्डों का क्षेत्रफल पहले की बजाय कम हो जाएगा। इसका सबसे बड़ा फायदा तो यह होगा, कि जो भी पार्षद चुना जाएगा उसको कम दूरी में घूमना पड़ेगा। वहीं उस वार्ड के लोगों को भी अपने पार्षद को काम बताने में आसानी रहेगी।

 


लगेंगे विकास को चार चांद


नगरपरिषद के वार्डों का वर्तमान में क्षेत्रफल अधिक होने के कारण कई वार्डों में अभी भी सड़कों का अभाव है। इन वार्डों में मुख्य स्थानों को छोड़ कर न रोड लाइट हैऔर नहीं पानी की लाइनें बिछी हुई है। वार्डों में न गार्डन हैऔर नहीं शोपिंग सेंटर। शहर में अभी तक जो विकास होने चाहिए वे नहीं हैं।

 


शहर के एक चौथाई वार्ड विकास से अछूते


नगरपरिषद क्षेत्र से जुड़े एक चौथाई वार्ड अभीभी विकास से अछूते हैं। इन वार्डों में कोईथी सुविधाएं नहीं हैं। शहर के गेटोलाव इलाके,सोमनाथ इलाके, जयपुर रोड, सैंथल रोड आदि इलाकों में जो भी नई कॉलोनियां बसी है उनमें नाम मात्र का विकास हो पाया है। कॉलोनियों का भी नियमन होगा।

 

 

वार्ड बढ़े हैं सीमा नहीं


नगरपरिषद क्षेत्र में केवल वार्डों का पुनर्गठन हुआ है। 40 वार्डों को ही 55 बनाया गया है। नगरपरिषद में अभी कोईनया इलाका शामिल नहीं किया गया है। अधिक वार्ड बनने से विकास अधिक होगा।
- दिलीप शर्मा, आयुक्त नगरपरिषद दौसा।

 

 

 

ग्रामीण वार्डों के फिरेंगे दिन


लालसोट. प्रदेश सरकार द्वारा लालसोट नगर पालिका क्षेत्र में वार्ड की संख्या 25 से बढ़ाकर 35 किए जाने से शहर के करीब आधा दर्जन से अधिक ग्रामीण वार्डो की जनता को बड़ी राहत मिलेगी। शहर में करीब आधा दर्जन वार्ड दूर दराज की ढाणियों में फैले हुए हैं। इन वार्डों का क्षेत्रफल अधिक होने से आमजन को बिजली, पानी, सड़क समेत कई मूलभूत सुविधाओं के लिए भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

 

 

वार्ड के जनप्रतिनिधि व अधिकारी भी दूर दराज में फैले इन वार्डों की समय पर सुध नहीं लेते है। वार्ड छोटे होने से पार्षद भी अपने क्षेत्र की समस्याओं के लिए पालिका प्रशासन तक अधिक बेहतर ढंग से आवाज उठा सकेंगे। वही दूसरी ओर सरकार के इस निर्णय पर आमजन ने भी खुशी जताते हुए कहा कि इससे विकास को गति मिलेगी।(नि.प्र.)

 

 

जनसमस्याओं का होगात्वरित निस्तारण


बांदीकुई. स्थानीय निकाय विभाग की ओर से वार्डो के पुनगर्ठन के लिए अधिसूचना जारी की गई है। इसके तहत अब शहर में 10 वार्ड बढ़ेंगे और 30 की जगह 40 वार्ड होंगे। इसके लिए निकाय निदेशक पवन अरोड़ा ने वर्ष 2011 की जनगणना को आधार मानते हुए पुनर्गठन के आदेश जारी किए हैं। पुनर्गठन होने से वार्ड सुव्यवस्थित होंगे। क्योंकि अब कई वार्डों का क्षेत्र अधिक है तो कहीं कम है। इसके अलावा एक ही कॉलोनी के कुछ मकान एक वार्ड में तो कुछ मकान दूसरे वार्ड में स्थित हैं ऐसे में पुनर्गठन से ऐसे समस्याओं में सुधार होगा। पुनगर्ठन के लिए नगरपालिका अधिशासी अधिकारी को प्राधिकृत अधिकारी बनाया गया है।

 

 

इसके लिए 4 जुलाई 2019 तक अधिशाषी अधिकारी द्वारा वार्डो के पुनर्गठन के प्रस्ताव तैयार कर 15 जुलाई तक पुनर्सीमांकन के प्रस्तावों पर आपत्ति प्राप्त की जाएगी। इसके बाद 22 जुलाई तक वार्ड गठन प्रस्ताव मय नक्शे एवं प्राप्त दावे एवं आपत्तियों पर टिप्पणी सहित राÓय सरकार भेजा जाएगा और 6 अगस्त तक सरकार द्वारा आपत्तियों का निस्तारण एवं प्रस्तावों का अनुमोदन किया जाएगा। इसके बाद 19 अगस्त तक राÓय सरकार द्वारा पुनर्सीमाकंन वार्डो का राजपत्र में अंतिम प्रकाशन किया जाएगा। गौरतलब है कि आगामी अगस्त 2020 में नगरपालिका के चुनाव होना प्रस्तावित है। लोगों का वार्डों का पुर्नगठन होने से जनसमस्याओं का निराकरण भी त्वरित हो सकेगा।

Published On:
Jun, 12 2019 07:19 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।