दौसा. नगर परिषद ने करीब दस-बारह वर्ष पूर्व किलासागर में भवानी क्लब स्टेडियम के समीप लाखों रुपए खर्च कर पार्क को विकसित किया था, लेकिन देखरेख के अभाव में दुुर्दशा का शिकार हो रहा है।
वहां लगी फिसल पट्टी क्षतिग्रस्त हो गई है, वहीं पेयजल के लगे हैंडपंप के उपकरणों को भी चोर पार कर ले गए हैं। जानकारी के अनुसार लोगों के मनोरंजन व घूमने के लिए भवानी क्लब स्टेडियम के समीप पार्क विकसित कर झूले-चकरी, बैठने के लिए बैंच, फव्वारे लगाए गए थे, लेकिन आज वह पार्क वीरान नजर आता है। फिसलन पट्टी पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई, वहीं पार्क की शोभा बढ़ाने के लिए लगाए गए फव्वारे गायब हो चुके हैं।
वर्तमान में कचरा डाला जा रहा है। पार्क के चारों तरफ जंगली पेड़ पौधे उगे हुए हैं। इसी पार्क के समीप जलदाय विभाग ने पम्प हाउस बना रखा है। जहां से शहर में जलापूर्ति करने वाली टंकियों में पानी भरा जाता है। पार्क समतलीकरण होने के बावजूद वहां गहरे-गहरे गड्ढे बन गए हैं, वहीं खरपतवार उगी हुई है। क्षेत्रीय निवासियों ने बताया कि नगर परिषद पार्क का निर्माण कराकर ही भूल गई है। अधिकारियों ने आज तक इस पार्क की सुध नहीं ली है।
कई लोगों को तो यह तक पता नहीं कि शहर के किलासागर स्थित एक पार्क भी है। पार्क को विकसित करने के लिए जिला प्रशासन व विभागीय अधिकारियों को कई बार अवगत कराया जा चुका है, लेकिन किसी ने पार्क का विकास कराना तो दूर सुध तक नहीं ली है। इस संबंध में जब विभागीय अधिकारियों से बात की तो उन्होंने इसके बारे में अनभिज्ञता जाहिर की।

नेहरू पार्क में जाना हुआ मुश्किल
दौसा. यदि आपको भ्रमण के लिए या फिर पेड़ों की छांव मेें आराम करने के लिए नगर परिषद कार्यालय के समीप नेहरू पार्क में जाना है तो आप आसानी से पार्क नहीं पहुंच सकते, क्योंकि शहर में दुपहिया व चार पहिया वाहनों की पार्किंग की कोई सुविधा नहीं है।
ऐसे में चालक पार्क में जाने वाले मार्ग पर वाहन खड़े कर देते हैं। इससे लोगों का पार्क में जाना मुश्किल हो रहा है। इन वाहन चालकों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने से अब यह जगह पार्किंग का रूप लेने लगी है। यदि कोई महिला या बच्चा दुपहिया वाहनों के समीप होकर निकलने का प्रयास भी करे तो गिरकर चोटिल होने का खतरा रहता है।
कई बार वाहन फंस जाने पर लोगों में कहासुनी तक हो जाती है।

पार्क में जाने के लिए दो द्वार बने हुए हैं। दोनों के बाहर ही दुपहिया वाहनों के खड़े रहने से पैदल आवागमन में परेशानी होती है। पार्क के समीप ही बैंक संचालित है। ऐसे में यहां लोगों की दिनभर आवाजाही बनी रहती है। ग्रामीण क्षेत्र से खरीदारी करने आने वाले लोग भी दोपहर में कुछ देर सुस्ताने के लिए पार्क में आते हैं, लेकिन पार्क में जाने वाले रास्ते में वाहनों के खड़े रहने से हर कोई प्रशासन को कोसता है।
इससे पार्क के सौन्दर्यीकरण पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। खास बात यह है कि प्रशासन से जुड़े अधिकारी एवं जनप्रतिनिधि भी आए दिन इसी रास्ते से गुजरते हैं, लेकिन किसी को भी आमजन की सुविधाओं से सरोकार नहीं है। शहर के लोगों ने प्रशासन से पार्क के बाहर खड़े रहने वाले वाहनों के खिलाफ कार्रवाई कराने की मांग की है।
करेंगे कार्रवाई
अभियंता ने बताया कि पार्क के बाहर वाहन खड़ा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। हालांकि वहां पर चौकीदार को नियुक्त किया हुआ है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।