चोरी गई प्राचीन प्रतिमा को तलाशने में जुटी पुलिस, नया गांव का मामला

By: Laxmi Kant Tiwari

Updated On:
25 Aug 2019, 01:00:28 PM IST

  • मौके पर जांच के बाद डेढ़ क्विंटल वजनी प्रतिमा को तलाशने में जुटी पुलिस

दमोह/बनवार. क्षेत्र से लगे नोहटा थाना के नया गांव में अज्ञात चोरों ने प्राचीन श्री गणेश प्रतिमा की चोरी कर ली। बताया गया है कि नया गांव में 449 वर्ष पुरानी एक प्रतिमा मंदिर में विराजमान थी। जहां पर गांव के कुछ लोग पूजा करने जाते थे। नया गांव निवासी ग्रामीण पूरन अहिरवार ने बताया कि वह 23 अगस्त को मंदिर गया था। जहां पर प्रतिमा देखी थी। लेकिन दूसरे दिन 24 अगस्त को जब वह पुन: पूजन करने पहुंचा तो उसे प्रतिमा दिखाई नहीं दी। उसने तत्काल गांव के लोगों को बताया और फि र बाद में पुलिस को जानकारी दी सूचना की बात नोहटा थाना पुलिस सहित फिं गरप्रिंट एवं एफ एसएल स्पेशलिस्ट डा. किरण सिंह, थाना प्रभारी सुधीरकुमार बेगी शनिवार शाम मौके पर पहुंचे। जहां पर सूक्ष्म जांच की। प्राचीन प्रतिमा को कौन ले गया इस बारे में जांच शुरू कर दी गई है।

खास बात यह है कि नया गांव की शून्य नदी के किनारे बने गणेश मंदिर में गांव के ही लोग पूजा करने पहुंचते थे। लेकिन वहां मंदिर में न तो ताला लगता था और ना ही कोई पुजारी था। मंदिर में रखी प्रतिमा का वजन करीब डेढ़ क्विंटल बताया गया है। जिसकी ऊंचाई 4 फीट एवं चौड़ाई 2 फीट से अधिक बताई गई है। मामले में सरपंच प्रतिनिधि वीरेंद्र सिंह का कहना है की मूर्ति को कौन ले गया यह तो जांच के बाद ही पता लगेगा। लेकिन वजनदार होने के कारण कम से कम 5 से अधिक लोग रहे होंगे जिन्होंने प्रतिमा की चोरी की है। हालांकि वह यह भी मानते हैं कि हो सकता है कि किसी ने जानबूझकर ऐसा किया हो। लेकिन जांच होना जरूरी है, जिससे सच्चाई निकलकर सामने आ सके।
जानकार बताते हैं कि शिवरामपुर की वीरांगना रानी दुर्गावती के शासनकाल में नया गांव बसाया गया था जहां पर सती के कई चीरे आज भी विराजमान हंै। यह गांव 1570 में स्थापित होना बताया गया है, जिसमें श्रीगढ़ गौरी, विजयदुर्ग महाराज, राजा अनहरण देव के समय का जिक्र इतिहास में मिलता है। नया गांव का नाम ठर्रक लिखा हुआ है। जहां पर रानी दुर्गावती की टकसाल हुआ करती थी। लेकिन वर्तमान स्थिति में यह वीरान मौजा है। यहां प्राचीन शिव, गणेश, व शिव मंदिर है।
नोहटा थाना प्रभारी सुधीर कुमार बेगी का कहना है कि जांच कराई जा रही है किसी ने जानबूझकर ऐसा किया है कि प्रतिमा को कहीं ले जाकर छिपा दिया हो या फि र कोई चोरी करके ले गया। यह तो जांच के बाद ही पता लग सकेगा। क्योंकि जो शिव मंदिर है वह बाढ़ ग्रस्त नदी के तट पर बना हुआ है। इसलिए वहां बारिश में जाने का रास्ता भी नहीं रहता है। फि र ऐसी स्थिति में आखिर कौन व्यक्ति प्रतिभा को चोरी करके ले गया। इसकी जांच की जा रही है जल्द ही प्रतिमा का पता लगा लिया जाएगा

Updated On:
25 Aug 2019, 01:00:28 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।