दमोह. जिला मुख्यालय से महज 7 किमी दूर तिदौनी ग्राम पंचायत में उस दौरान विकास की हकीकत सामने आ गई जब एक मरीज को गांव के लोग खाट पर लिटाकर ऊफनते नाला पार कराकर अस्पताल ले गए। इसी तरह रोजाना स्कूली बच्चे घर से स्कूल जाने और छुट्टी होने पर वापस घर लौटने के समय ऊफनते नाले को पार करते हैं। बताया गया है कि नाले पर वर्षों बाद भी सेतु नहीं बनाया गया है, इसलिए लोगों को नाले में से बारहों महीने आवागमन करना पड़ता है जो बारिश के इन दिनों काफी खतरनाक बन चुका है। ग्रामीणों का कहना है कि नाला निर्माण कराए जाने के लिए कई बार नेताओं से प्रशासनिक अधिकारियों से मांग की जा चुकी है। लेकिन लोगों की जान से जिम्मेदारों को कोई सरोकार नहीं है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।