रेयान स्कूल के आॅनर्स पर सेबी का शिंकजा, फर्जी कंपनी बनाकर कर डाली करोड़ों की कमाई

Mohit sharma

Publish: Sep, 12 2017 01:47:00 PM (IST)

सेबी की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि दोनों मालिकों ने एक फर्जी फाइनेंस कंपनी के माध्यम से करोड़ो रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग की है।

नई दिल्ली। प्रद्यूमन मर्डर केस के बाद सुर्खियों में आए रेयान इंटरनेशन स्कूल की मुश्किले बढ़ती जा रही हैं। देश भर में रायन इंटरनेशनल के नाम से स्कूल चलाने वाला रेयान इंटरनेशनल ग्रुप के ट्रस्टी ग्रेस और ऑगस्टिन पींटो पर अब सेबी ने नजरें तरेरनी शुरू कर दी हैं। सेबी की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि दोनों मालिकों ने एक फर्जी फाइनेंस कंपनी के माध्यम से करोड़ो रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग की है।

फर्जी फाइनेंशियल कंपनी से किया कारोबार

सेबी की रिपोर्ट के मुताबिक ग्रेस और ऑगस्टिन पिंटो ने मुंबई की एक फाइनेंस कंपनी कामालक्क्षी लिमिटेड में 50 लाख रुपये का निवेश किया था। इसके बाद एक साल के भीतर ही 50 लाख के इस निवेश पर 32 करोड़ रुपए से ज्यादा की लॉन्ड्रिंग की गई थी। जिसके बाद सेबी ने बाद में इस कंपनी को स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग पर प्रतिबंध लगा दिया था। दरअसल, कामालक्ष्मी ने कुछ नजदीकी 137 लोगों को प्रिफेंशियल शेयर दिए थे। बता दें कि प्रिफेंशियल शेयर ऐसे शेयर होते हैं, जिनको स्टॉक मार्केट में ट्रेड नहीं किया जा सकता है। वहीं कंपनी ने इन शेयरों को 10.20 रुपये प्रति शेयर की दर से दिया था। इसके चलते रेयन के मालिक ग्रेस और ऑगस्टिन पिंटो ने कंपनी के 5 लाख शेयर खरीदे और इसके लिए 1 करोड़ रुपये का निवेश किया।

कर डाली 32.20 करोड़ रुपये की अवैध कमाई

सेबी की जांच रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि इस कंपनी के शेयर के रेट को जनवरी 2014 से लेकर के दिसंबर 2014 के बीच में गलत तरीके से 4694 प्रतिशत तक बढ़ा दिया गया। यही कारण है कि एक साल में इस शेयर का रेट बढ़कर 10.20 से 489 रुपये तक हो गया। इस तरह एक फेक कंपनी के माध्यम से पिंटो एंड फैमिली ने एक साल भतीर 32.20 करोड़ रुपये की अवैध कमाई कर डाली। हालांकि अभी सेबी ने कंपनी के स्टॉक मार्केट में ट्रेङ्क्षडग को प्रतिबंधित कर दिया है और यह मामला आयकर विभाग को हैंड ओवर कर दिया है।

 

More Videos

Web Title "SEBIs action the owner of Ryan School earning crores of rupees"