ऋषभ मुखर्जी ने अमीरात को पहुंचाया क्रिकेट विश्व कप में, भारत के लिए खेलना है सपना

By: Mazkoor Alam

Updated On: 11 Sep 2019, 07:19:42 PM IST

  • 18 साल के युवा खिलाड़ी अपना सुरक्षित भविष्य छोड़कर भारत लौटना चाहता है और भारतीय क्रिकेट टीम के लिए अपना दावा पेश करना चाहता है।

कोलकाता : यह करीब-करीब तय हो गया है कि भारतीय मूल के ऑफ स्पिनर ऋषभ मुखर्जी संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम से खेलेंगे। लेकिन कोलकाता के इस 18 साल के युवा खिलाड़ी का दिल अब भी भारत के लिए धड़कता है। वह अपना सुरक्षित भविष्य छोड़कर भारत लौटना चाहता है और भारतीय टीम के लिए अपना दावा पेश करना चाहता है। ऋषभ ने जिस तरह का प्रदर्शन किया है, यह तय लगता है कि वह अगले साल होने वाले अंडर-19 विश्व कप के लिए यूएई टीम का अहम सदस्य रहेगा।

पांच साल की उम्र में चले गए थे दुबई

आज से 13 साल पहले ऋषभ जब पांच साल के थे, तभी वह अपने परिवार के साथ दुबई चले गए थे। इसके बाद वहीं के होकर रह गए और वहीं क्रिकेट खेलने लगे। उन्होंने संयुक्त अरब अमीरात को अगले साल विश्व कप के लिए क्वालिफाई कराने में काफी अहम योगदान दिया है। विश्व कप क्वालिफायर के लिए खेले गए पांच मुकाबलों में उन्होंने शानदार गेंदबाजी का प्रदर्शन करते हुए नौ विकेट लिए हैं।

दिल्ली के इस स्टेडियम में होगा विराट कोहली स्टैंड का अनावरण, टीम इंडिया की रहेगी मौजूदगी

भारत के लिए खेलना है सपना

ऋषभ ने कहा कि आज भी उनका सपना भारत के लिए खेलने का है। संयुक्त अरब अमीरात की टीम में अपना स्थान बना लेने के बावजूद वह वापस कोलकाता आकर देश में नए सिरे से क्रिकेटीय करियर शुरू करना चाहते हैं और बंगाल की टीम में जगह बनाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि अगले साल अंडर-19 विश्व कप समाप्त होने के बाद वह भारत आकर दोबारा से सबकुछ शुरू करने की तैयारी कर रहे हैं। इस सिलसिले में उनकी कई कोचों से बात हुई है और उन्होंने इसके लिए उन्हें प्रोत्साहित भी किया है।

कोलकाता जाने की तैयारी कर रहा था तभी हो गया चयन

ऋषभ ने बताया कि वह अमीरात में इंटर अकादमी लीग में उनके बेहतरीन प्रदर्शन के कारण राष्ट्रीय चयनकर्ताओं की नजर उन पर पड़ी। वह जबकि क्लब क्रिकेट की तैयारी कर रहे थे, क्योंकि उनकी योजना कोलकाता वापस लौटने की थी। वह पिछले दो साल से कड़ी मेहनत कर रहे हैं, लेकिन इंटर अकादमी में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद उन्हें यूएई अंडर-19 कैम्प के लिए बुलावा आ गया।

मुख्य कोच के दूसरे कार्यकाल में रवि शास्त्री का ध्यान बेंच स्ट्रेंथ मजबूत करने पर

फुटबॉलर बनना चाहते थे ऋषभ

ऋषभ फुटबॉल में अपना करियर बनाना चाहते थे, लेकिन आस्थमा होने के कारण उन्हें फुटबॉल खेलने की इजाजत नहीं मिली। तब उनके पिता ने क्रिकेट में हाथ आजमाने को कहा। उनके पिता का सपना उन्हें और उनके भाई दोनों को उच्च स्तर पर क्रिकेट खेलते देखना है। ऋषभ ने कहा कि पिता ने ही उन्हें उच्च स्तर पर क्रिकेट जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया।

Updated On:
11 Sep 2019, 06:24:10 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।