Asia Cup : पिछली बार जब भारत का मैच हुआ था टाई , तब भी इसी खिलाड़ी ने डुबोई थी लुटिया

By: Siddharth Rai

Updated On: Sep, 26 2018 02:19 PM IST

  • इस मैच के टाई होने की बड़ी वजह भारतीय ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा रहे। भारत को एक रन की ज़रूरत थी और आखिरी ओवर की दो गेंदें शेष थी जडेजा आराम से सिंगल ले सकते थे लेकिन वे शॉट हवा में खेल बैठे और कैच आउट हो गए और मैच टाई हो गया। लेकिन क्या आप जानते हैं पिछली बार जब चार साल पहले भारत ने मैच टाई कराया था तब भी आखिरी गेंद जडेजा ने ही खेली थी।

नई दिल्ली। अफगानिस्तान ने भारत के सबसे सफल कप्तानों में शुमार महेंद्र सिंह धोनी की 696 दिन बाद कप्तान के तौर पर वापसी को फीका कर दिया। अफगानिस्तान और भारत के बीच मंगलवार को यहां दुबई अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में खेले गया एशिया कप-2018 के सुपर चार का मैच टाई रहा। इस मैच के टाई होने की बड़ी वजह भारतीय ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा रहे। भारत को एक रन की ज़रूरत थी और आखिरी ओवर की दो गेंदें शेष थी जडेजा आराम से सिंगल ले सकते थे लेकिन वे शॉट हवा में खेल बैठे और कैच आउट हो गए और मैच टाई हो गया। लेकिन क्या आप जानते हैं पिछली बार जब चार साल पहले भारत ने मैच टाई कराया था तब भी आखिरी गेंद जडेजा ने ही खेली थी।

पिछली बार भी जडेजा ने ही कराया था मैच टाई -
साल 2014 मैं भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच खेली गयी पांच मैचों की वनडे सीरीज के दौरान दोनों टीमों के बीच खेला गया तीसरा वनडे टाई हो गया था। उस मैच में न्यूज़ीलैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत के सामने 314 रन का विशाल लक्ष्य रखा था। जवाब में भारतीय टीम ने 9 विकेट खोकर इस मैच को टाई करा दिया। इस मैच में मैन ऑफ़ दा मैच चुने गए रविंद्र जडेजा ने ही आखिरी गेंद खेली थी और मैच टाई कराया था। आखिरी गेंद पर भारत को जीत के लिए 2 रन चाहिए थे और जडेजा लम्बा शॉट नहीं लगा पाए और मात्र एक ही रन दौड़ पाए जिस कारण मैच ड्रा हो गया। वहीं मंगलवार को अफगानिस्तान के खिलाफ खेले गए मैच में जडेजा को मात्र एक रन की जरुरत थी अगर वे शॉट लगाने की वजह आराम से एक रन ले लेते तो ये मैच जीत जाते लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

ऐसे हुआ मैच टाई -
इस मैच में आखिरी ओवर में भारत को जीत के लिए सात रनों की जरूरत थी। रवींद्र जडेजा (25) ने पहली गेंद पर रन नहीं लिया। दूसरी गेंद पर उन्होंने चौका जड़ा और अगली गेंद पर एक रन लिया। चौथी गेंद पर खलील अहमद (नाबाद 1) ने एक रन लिया। यहां स्कोर बराबर हो गया था। भारत को जीत के लिए दो गेंदों में एक रन ही दरकार थी, लेकिन अभी तक सूझबूझ से खेलते आ रहे जडेजा राशिद खान की पांचवीं गेंद को हवा में खेल बैठे और नाजीबुल्लाह जादरान ने कैच लपकने में कोई गलती नहीं की। बता दें इस मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी अफगानिस्तान ने मोहम्मद शहजाद की 124 और मोहम्मद नबी की 64 रनों की पारियों के दम पर पूरे 50 ओवर खेलते हुए आठ विकेट के नुकसान पर 252 रन बनाए थे। भारतयी टीम भी एक गेंद शेष रहते अपनी सभी विकेट खोकर 252 रन ही बना सकी और मैच टाई रहा। मैच का अंत दोनों टीमों ने समान स्कोर पर किया। धोनी का यह बतौर कप्तान 200वां वनडे मैच था। वहीं यह कप्तान के तौर पर धोनी का पांचवां मैच है जो टाई रहा।

Published On:
Sep, 26 2018 11:07 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।