क्रिकेटर अजीत चंदीला पर अब लगा धोखाधड़ी का आरोप, टीम इंडिया में चयन कराने के नाम पर की ठगी

By: Mazkoor Alam

Updated On: 11 Sep 2019, 04:15:29 PM IST

  • रॉजस्थान रॉयल्स से खेल चुका है यह खिलाड़ी। साल 2013 में इस पर लगा था मैच फिक्सिंग का आरोप।

नई दिल्ली : मैच फिक्सिंग के मामले में आजीवन प्रतिबंध झेल रहे क्रिकेटर अजीत चंदेला पर अब धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है। उत्तर प्रदेश हापुड़ शहर के एक फल विक्रेता मशकूर ने उन पर साढ़े सात लाख रुपए की ठगी का आरोप लगाया है। आरोप के मुताबिक चंदीला ने भारतीय अंडर 14 क्रिकेट टीम में उनके लड़के का चयन कराने के नाम पर फल विक्रेता से साढ़े सात लाख रुपए लिए थे।

पुलिस कर रही है मामले की जांच

हापुड़ पुलिस ने क्रिकेटर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। फल व्यापारी मशकूर ने जानकारी दी कि उनका बेटा मुनीर फरीदाबाद में क्रिकेट की कोचिंग ले रहा था। इस वजह से उसका फरीदाबाद आना-जाना लगा रहता था। कुछ दिन पहले वहीं उसकी मुलाकात अजीत चंदीला से हुई। उसने उसके बेटे का चयन अंडर 14 भारतीय क्रिकेट टीम में कराने की बात कही। वह उसकी बातों में आ गया।

दिल्ली के इस स्टेडियम में होगा विराट कोहली स्टैंड का अनावरण, टीम इंडिया की रहेगी मौजूदगी

24 दिसंबर 2018 को दिए थे पैसे

इसके बाद चंदीला ने उससे साढ़े सात लाख रुपए की मांग की। 24 दिसंबर 2018 को पैसे लेने के लिए अजीत चंदीला उनके घर आया था। फल विक्रेता ने अपने एक परिचित के सामने उसे साढ़े सात लाख रुपए दिए। चंदीला ने बताया कि फरवरी 2019 में टीम इंडिया का चयन होना है और उसके बेटे का भी जरूर चयन हो जाएगा। लेकिन कई माह बाद भी उसके बेटे का चयन नहीं हुआ।

चंदीला का दिया चेक हुआ बाउंस

जब फल विक्रेता के बेटे चयन नहीं हुआ तो उसने चंदीला से पैसे वापस करने की मांग शुरू की। काफी सख्ती करने पर चंदीला ने 11 मार्च 2019 को सात लाख रुपए का चेक दिया। और दो महीने के भीतर बाकी के 50 हजार रुपए वापस करने की बात कही, लेकिन चंदीला का दिया चेक खाते में जमा कराने पर बाउंस हो गया। इसके बाद से वह लगातार चंदीला से पैसे मांग रहा है, लेकिन वह दे नहीं रहा है।

मुख्य कोच के दूसरे कार्यकाल में रवि शास्त्री का ध्यान बेंच स्ट्रेंथ मजबूत करने पर

स्पॉट फिक्सिंग मामले में लगा है आजीवन बैन

बता दें कि अजीत चंदीला आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेल चुके हैं। 2013 में उन पर आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने का आरोप लगा था। यह वही मामला है, जिसमें उनके साथ-साथ श्रीसंत और अंकित चव्हाण भी फंसे थे। दिल्ली पुलिस ने 16 मई 2013 को इन तीनों खिलाड़ियों को इस आरोप में गिरफ्तार किया था। इसके बाद बीसीसीआई ने इन तीनों पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था। हालांकि बीसीसीआई के लोकपाल डीके जैन ने श्रीसंत पर से आजीवन प्रतिबंध हटा दिया है। उनका प्रतिबंध अगले साल अगस्त के अंत में समाप्त हो जाएगा।

Updated On:
11 Sep 2019, 04:14:27 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।