Asia Cup: फाइनल मैच के शतकवीर लिट्टन दास को जब हिंदू होने के कारण बांग्लादेश में सुननी पड़ी थी खरी-खोटी

By:

Updated On:
28 Sep 2018, 09:19:15 PM IST

  • खिताबी मुकाबले में आज बांग्लादेश की ओर से सलामी बल्लेबाज लिट्टन दास ने बेहतरीन शतकीय पारी खेली है।

नई दिल्ली। संयुक्त अरब अमीरात में जारी एशिया कप 2018 के खिताबी मुकाबले में भारत का सामना बांग्लादेश से हो रहा है। दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले जा रहे इस मुकाबले में बांग्लादेश ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 222 रन बनाए। बांग्लादेश की ओर से सलामी लिट्टन दास ने 121 रनों की दमदार शतकीय पारी खेली। लिट्टन की इस पारी के दम पर बांग्लादेश की टीम भारत को एक सम्मानजनक स्कोर दे पाने में सफल हो सकी। लेकिन आपको यह जानकर ताज्जुब होगा कि एक समय आज के मैच के शतकवीर लिट्टन दास को एक समय अपने ही देश में हिंदू होने के कारण शर्मिंदा होना पड़ा था।

बल्लेबाजी से जीता लाखों क्रिकेट प्रेमियों का दिल-
कहा जाता है कि बड़ा खिलाड़ी वो होता है जो बड़े मैच में परफॉर्म करें। लिट्टन दास ने आज फाइनल मुकाबले में शतक जमाते हुए खुद को बड़े खिलाड़ियों की लिस्ट में स्थापित कर लिया है। अपनी बल्लेबाजी से लिट्टन ने आज लाखों क्रिकेट प्रेमियों का दिल जीता। लेकिन बांग्लादेश के इस हिंदू बल्लेबाज को अपने हिंदू होने के कारण अपने ही देश में ट्रोल होना पड़ा था।

litton

मां दुर्गा के भक्त हैं लिट्टन दास-
आपको बता दें बांग्लादेश के सलामी बल्लेबाज लिट्टन दास मां दुर्गा के बड़े भक्त हैं। आप जानते हैं कि बंगालियों का सबसे बड़ा त्योहार दुर्गापूजा होता है। नवरात्री के दौरान पश्चिम बंगाल के साथ-साथ पुराने पूर्वी बंगाल (बांग्लादेश) में रह रहे बंगाली मूल के लोग खुल कर पूजा-पाठ करते हैं और जश्न मनात है। लेकिन बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिंदू बंगालियों की स्थिति काफी खराब है।

जब जमकर हुए ट्रोल हुए थे लिट्टन-
बांग्लादेश में रह रहे हिंदूओं को हीन भावना से देखा जाता है। उनके साथ शोषण की खबरें बराबर मीडिया में आती रहती है। दुर्गा पूजा के दौरान लिट्टन दास ने 2015 में एक तस्वीर अपने फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट की थी। जिसके चलते उन्हें खूब ट्रोल किया गया था। दुर्गा पूजा के मौके पर लिट्टन दास ने अपने फेसबुक अकाउंट पर मां दुर्गा की फोटो पोस्ट की थी, जिसके बाद कई लोगों ने उन्हें बुरा-भला कहा था।

Updated On:
28 Sep 2018, 09:19:15 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।