Asia Cup 2018: रिकॉर्ड सातवीं बार एशिया का बॉस बना भारत, फाइनल में बांग्लादेश को दी मात

By:

Updated On: Sep, 29 2018 01:39 AM IST

  • एशिया कप 2018 को भारत ने जीत लिया है। भारतीय टीम ने फाइनल में बांग्लादेश को तीन विकेट के अंतर से मात दी।

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम ने एशियाई देशों के बीच अपना वर्चस्व एक बार फिर से साबित कर दिया है। संयुक्त अरब अमीरात में खेले गए एशिया कप 2018 के फाइनल मुकाबले में बांग्लादेश को तीन विकेट के अंतर से मात देते हुए भारत एशिया का बॉस बन चुका है। दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए इस फाइनल मुकाबले में भारत ने बांग्लादेश से मिले 223 रनों के लक्ष्य को सात विकेट के नुकसान पर आखिरी ओवर की आखिरी गेंद पर हासिल कर लिया। दोनों टीमों के बीच खेला गया यह मुकाबला काफी रोमांचक रहा। इस जीत के साथ ही भारतीय टीम सात बार एशिया कप का खिताब अपने नाम करने में कामयाब हो गई।

मैच का संक्षिप्त विवरण-
खिताबी मुकाबले का टॉस जीत कर भारत के कप्तान रोहित शर्मा ने पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया। पहले बल्लेबाजी करते हुए बांग्लादेश की टीम सलामी बल्लेबाज लिट्टन दास की शानदार शतकीय पारी के दम पर निर्धारित 50 ओवर 222 रन बनाए। जिसका पीछा करने उतरी भारतीय टीम ने तीन विकेट के नुकसान पर 223 रन बनाते हुए चैंपियन बनने का रुतबा हासिल किया। भारत की ओर से कप्तान रोहित शर्मा ने सर्वाधिक 48 रन बनाए।

भारत की शुरुआत रही खराब-
223 रन का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही। सलामी बल्लेबाज शिखर धवन 15 रन बना कर नजमुल इस्लाम की गेंद पर आउट हुए। इसके बाद कप्तान मशरफे मुर्तजा ने अंबाती रायडू को आउट कराते हुए भारत को दूसरा झटका दिया। रायडू मात्र 2 रन बना सके। रायडू के आउट होने के बाद भारत को तीसरा झटका कप्तान रोहित शर्मा के रूप में लगा। रोहित शर्मा 48 रन बना कर आउट हुए। इसके बाद धोनी और कार्तिक के बीच चौथे विकेट के लिए 54 रनों की एक अच्छी साझेदारी हुई। कार्तिक 37 रन बना कर आउट हुए। कार्तिक के बाद धोनी से अच्छी पारी की उम्मीद थी। लेकिन वो 36 रन बना कर चलते बने।

केदार जाधव हुए चोटिल-
आईपीएल में चोटिल हुए केदार जाधव एक बार फिर चोटिल हो गए। फाइनल मुकाबले में मांसपेशियों में खिचांव होने के कारण जाधव को रिटायर हर्ट होकर पवेलियन वापस लौटना पड़ा। अब देखना होगा कि केदार की चोट कितनी गंभीर है। कारण कि इस टूर्नामेंट के बाद भारतीय टीम अपने घर में वेस्टइंडीज की चुनौती का सामना करेगी। जिसके लिए अभी टीम का चयन होना बाकी है। हालांकि रवींद्र जडेजा के 23 रन पर आउट होने के बाद केदार फिर से बल्लेबाजी करने क्रीज पर आएं। और भारत को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई।

बांग्लादेश को मिली थी ठोस शुरुआत-
टॉस हार कर पहले बल्लेबाजी करने उतरी बांग्लादेश की टीम को सलामी बल्लेबाजों ने सधी हुई शुरुआत दी। इस मैच में बांग्लादेशी कप्तान मशरफे मुर्तजा ने सलामी बल्लेबाजी में बदलाव करते हुए मेहंदी हसन को ओपनिंग करने भेजा। कप्तान के भरोसे पर खरे उतरते हुए मेहंदी हसन ने लिटन दास के साथ मिलकर पहले विकेट के लिए 20.1 ओवर में 120 रनों की साझेदारी निभाई। भारत को पहली सफलता केदार जाधव ने मेहंदी हसन को 32 के स्कोर पर आउट कराते हुए दिया। 2016 के बाद यह पहली बार है जब बांग्लादेश की सलामी जोड़ी ने 100 से ज्यादा रनों की साझेदारी निभाई हो।

लिटन का तूफानी शतक-
इस मैच में बांग्लादेश की ओर से सलामी बल्लेबाज लिटन दास बेहतरीन बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश किया। लिटन ने 87 गेंदों का सामना करते हुए वनडे करियर का अपना शतक पूरा किया। लिटन 117 गेंदों पर 121 रन बना कर आउट हुए। इस शतकीय पारी के दौरान लिटन ने 12 चौके और दो शानदार छक्के भी लगाए। लिटन की इस दमदार पारी के कारण एक समय बांग्लादेश बड़ा स्कोर बनाता हुआ दिख रहा था। लेकिन बाद में बांग्लदेश की ओर साझेदारी नहीं हो सकी। लिहाजा टीम बड़ा स्कोर खड़ा करने से चूक गई।

यों आउट होते गए बांग्लादेश के बल्लेबाज-
सलामी बल्लेबाज मेहंदी के आउट होने के बाद इमरुन कायेस मैदान पर आए। लेकिन वो चहल की गेंद पर मात्र 2 रन बना कर आउट हो गए। इसके बाद इनफॉर्म बल्लेबाज मुश्फिकुर रहीम भी केदार की गेंद पर 5 के निजी स्कोर पर आउट हुए। मोहम्मद मिथुन को रवींद्र जडेजा की शानदार फिल्डिंग के कारण दो के निजी स्कोर पर रन आउट होना पड़ा। इसके बाद महमदुल्लाह को कुलदीप यादव ने आउट करते हुए बांग्लादेश को पांचवां झटका दिया। शतकवीर लिटन दास 121 रन बना कर स्टंप आउट हुए। फिर कुलदीप ने कप्तान मुर्तजा को सात के निजी स्कोर पर आउट किया।

आखिरी ओवरों में सौम्य की उपयोगी पारी-
बांग्लादेश की ओर से आखिरी ओवरों में सौम्य सरकार ने 45 गेंदों पर 33 रनों की उपयोगी पारी खेली। वो अंबाती रायडू की एक अच्छी थ्रो पर रन आउट हुए। इसके बाद जसप्रीत बुमराह ने एक शानदार यॉकर से बांग्लादेश के आखिरी बल्लेबाज को आउट कर पारी को 222 रन पर समेट दी। भारत की ओर कुलदीप यादव ने सर्वाधिक तीन बल्लेबाजों को आउट किया। फाइनल मुकाबले में बेहतरीन शतकीय पारी खेलने वाले लिट्टन दास को मैन ऑफ द मैच का अवार्ड दिया गया।

Published On:
Sep, 29 2018 01:23 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।