एलइडी लाइट से होगी बिजली बिल में 42 फीसदी की बचत

नगर निगम ने शहर में तेजी से सोडियम बल्बों की जगह एलईडी लाइटें लगाई जा रही है। इससे बिजली के बिल में सालाना ४२ फीसदी की बचत होने का अनुमान है। अभी निगम एक साल में २० करोड़ से अधिक रुपए बिजली बिल के अदा करता है।

कोयम्बत्तूर. नगर निगम ने शहर में तेजी से सोडियम बल्बों की जगह एलईडी लाइटें लगाई जा रही है। इससे बिजली के बिल में सालाना ४२ फीसदी की बचत होने का अनुमान है। अभी निगम एक साल में २० करोड़ से अधिक रुपए बिजली बिल के अदा करता है। इन दिनों शहर के व्यस्ततम मेट्टूपालयम रोड पर एलईडी लाइटें लगाने का काम चल रहा है। यहां डिवाइडर पर नए डिजायन के खंभे लगाए जा रहे हैं। इन पर दोनों ओर एलईडी लाइटें हैं। अभी सड़क के दोनों ओर खंभे लगे हैं। अब दो की जगह एक ही खंभे से काम चल जाएगा।यहां क्रेन की सहायता से बड़े खंभों को खड़ा किया जा रहा है।
सूत्रों ने बताया कि पिछले सात महीनों में लगभग 45,000 सोडियम बल्ब हटा कर एलईडी लाइट लगाईजा चुकी है। निगम का लक्ष्य 58,8 78 सोडियम बल्ब हटाने का है। यह काम तेजी से चल रहा है। उम्मीद है कि एक माह में उसे पूरा कर लिया जाएगा। सोडियम की जगह एलईडी लाइट से बिजली के बिल में बचत होगी।
निगम के स्टोर में 10,000 से 12,000 एलईडी लाइट रखी जाएगी, जिन्हें जरूरत पडऩे पर इस्तेमाल किया जा सकेगा।सूत्रों ने बताया कि हर १० एलईडी का एक बोर्ड होगा, जहां से उन पर नियंत्रण व निगाह रखी जा सकेगी। जनता की रोड लाइट सम्बन्धी शिकायतों के निस्तारण में तेजी आएगी।एक अधिकारी ने बताया कि एलईडी लाइट से निगम को बिजली के बिल में 42 फीसदी बचत की उम्मीद है। वर्तमान में नगर निगम एक साल में बिजली बिल के रूप में 20 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान करता है। साथ ही रोड लाइटों के रखरखाव पर भी हर साल नौ करोड़ रुपए खर्च किए जाते हैं।

Dilip Reporting
और पढ़े
Web Title: LED lights will save 42 percent in electricity bill
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।