प्रधानाचार्या सहित स्टाफ को बदलने की मांग पर अड़े विद्यार्थी, स्कूल पर ताला लगाकर प्रदर्शन

By: Piyush Sharma

Published On:
Mar, 23 2019 07:23 PM IST

 
  • गुलाल लगाने की बात पर भड़की थी प्रधानाचार्या

चूरू. गांव कड़वासर के राजकीय आदर्श उमावि में होली खेलने की बात को लेकर प्रधानाचार्य की ओर से छात्राओं को डांटे जाने पर शनिवार को ग्रामीणों व विद्यार्थियों ने विद्यालय के गेट पर ताला लगाकर विरोध प्रदर्शन किया।
विद्यार्थी व ग्रामीणों ने गेट पर नारेबाजी कर आक्रोश जताते हुए प्रधानाचार्या व स्टाफ को बदलने की मांग की। ग्रामीणों व छात्राओं का कहना था कि होली से पहले स्कूल में विद्यार्थियों ने होली खेली थी। इस दौरान एक छात्रा ने प्रधानाचार्य को भी गुलाल लगा दी। इससे गुस्साई प्रधानाचार्या ने सभी छात्र-छात्राओं को डांट-फटकार करते हुए मुकदमा दर्ज करवाने की धमकी दे दी। छात्राओं ने ये घटनाक्रम घर जाकर परिजनों को बताया तो उन्होंने इसे गलत ठहराया। इसी बात को लेकर ग्रामीण व विद्यार्थी सुबह विद्यालय के आगे एकत्रित हो गए और गेट पर ताला लगाकर प्रदर्शन किया। सूचना मिलने पर पहुंचे सीबीईओ सुरेश धौलपुरिया ने ग्रामीणों से समझाइस की। मगर ग्रामीण अपनी मांग पर अड़े रहे। लंबी वार्ता के बाद दोपहर करीब तीन बजे ग्रामीणों ने ताला खोल दिया। इस संबंध में प्रधानाचार्या स्वीटी शर्मा का कहना था कि उन्होंने विद्यालय परिसर में होली खेलने से मना किया था। इसके बावजूद स्टाफ के कुछ सदस्यों ने विद्यार्थियों को होली खेलने के लिए उकसा कर आदेश की अवहेलना करवाई। इस पर उन्होंने बच्चों को डांटा था। स्टाफ में कुछ सदस्य उनसे रंजिश रखते हैं और हटाना चाहते हैं।

समिति रखेगी निगरानी, फिर होगा निर्णय


सीबीईओ धौलपुरिया ने बताया कि सरपंच व 11 अभिभावकों की समिति गठित की गई है। समिति के पदाधिकारी व सीबीईओ तीन-चार दिन तक स्कूल में निगरानी रखेंगे। फिर बैठक करके स्टाफ से समझाइस कर मामले का समाधान करेंगे। इसके बावजूद स्थिति नहीं सुधरी तो स्टाफ बदलने का निर्णय लिया जाएगा।

Published On:
Mar, 23 2019 07:23 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।