पार्किंग ही नहीं, वाहन खड़े करें तो आखिर कहां

By: kalulal lohar

Updated On:
11 Sep 2019, 12:35:06 PM IST

  • शहर का निरन्तर विस्तार हो रहा है, दुपहिया हो या चौपहिया वाहन हर तरह के वाहनों की संख्या बढ़़ रही है। बाजार में वाहनों की भीड़ बढ़ी है लेकिन उनकी पार्किंग के लिए ठोस प्रबन्ध ही नहीं है।

चित्तौडग़ढ़. शहर का निरन्तर विस्तार हो रहा है, दुपहिया हो या चौपहिया वाहन हर तरह के वाहनों की संख्या बढ़़ रही है। बाजार में वाहनों की भीड़ बढ़ी है लेकिन उनकी पार्किंग के लिए ठोस प्रबन्ध ही नहीं है। शहर के अधिकतर प्रमुख बाजारों में पुलिस सड़क किनारे वाहन खड़े होने पर चालान बनाने की चेतावनी देती है लेकिन वाहन पार्किंग कहां करे ये बता नहीं पाती। पार्किंग का संकट महसूस हो रहा लेकिन जिम्मेदार अब तक बेखबर बने हुए है।
पुराने शहर में जहां अधिकतर मुख्य बाजार है और दिनभर वाहनों की भीड़ रहेती है। गोराबादल स्टेडियम के पीछे की तरफ एवंं सब्जी मंडी रोड पर सेन्ट्रल पार्किग को छोड़ कहीं पर भी पार्किग का इंतजाम नहीं है। राणा सांगा बाजार, सदर बाजार, महाराणा प्रताप सेतु मार्ग, न्यूक्लाथ मार्र्केट जैसे बाजारों में वाहन पार्किंग के कोई प्रबंध नहीं है। पुलिस कार-जीपों के सड़क पर खड़ा रहने पर चालान बना देती है लेकिन वहां खरीदारी के लिए आने वाले लोग आसपास पार्किंग स्टेण्ड तलाशते है तो जगह ही नहीं दिखती है। इन अधिकतर बाजारों में पार्किग लाइन के अंदर व्यापारियों के वाहन ही खड़े हो जाते है तो ग्राहकों के वाहन खड़े करने के लिए जगह ही नहीं बचती है।
कॉम्पलेक्स बन गए वाहन खड़े करने का स्थान नहीं
शहर में पुलिस व नगर परिषद की तरफ से जहां पार्किंग स्टेण्ड की कमी है वहीं बड़े व्यवसायिक कॉम्पलेक्सों में भी पार्किग के नाम पर खानापूर्ति की गई है। ऐसे में उनके ग्राहकों की बात तो दूर अधिकतर व्यापारियों के वाहन भी सड़कों पर खड़े रहकर यातायात व्यवस्था बिगाड़ते है। नियमों के तहत व्यवसायिक कॉम्पलेक्स संचालक को उनके यहां के व्यापारियों व ग्राहकों के वाहन खड़े रखने के लिए स्थान सुरक्षित रखना होता है।
पार्किंग नहीं होने का असर कारोबार पर
सदर बाजार जैसे क्षेत्र में पार्किंग के प्रबन्ध नहीं होने का सीधा असर कारोबार पर पड़ रहा है। वाहन खड़े करने की व्यवस्था नहीं होने से लोग इन क्षेत्रों में खरीदारी के लिए जाने से कतराते है। लोग ऐसे क्षेत्रों में खरीदारी को अधिक पसंद कर रहे है जहां पार्किंग का पर्याप्त इंतजाम हो।

Updated On:
11 Sep 2019, 12:35:06 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।