थाना प्रभारी को भी जाना पड़ गया सलाखों के पीछे, जानिए क्यों

By: Jitender Saran

Updated On:
10 Jul 2019, 09:25:31 PM IST

  • अवैध बजरी परिवहन के बदले २५ हजार रूपए की रिश्वत लेते पकड़े गए भैंसरोडग़ढ़ थाना प्रभारी को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने बुधवार को उदयपुर स्थित न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में भिजवा दिया गया।

-एसीबी ने मकान की भी ली तलाशी, कुछ नहीं मिला
चित्तौडग़ढ़.
अवैध बजरी परिवहन के बदले २५ हजार रूपए की रिश्वत लेते पकड़े गए भैंसरोडग़ढ़ थाना प्रभारी को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने बुधवार को उदयपुर स्थित न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में भिजवा दिया गया। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो राजसमंद व चित्तौडग़ढ़ की टीम ने मंगलवार रात कार्रवाई करते हुए भैंसरोडग़ढ़ थाना प्रभारी राजाराम मीना को २५ हजार रूपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। यह रिश्वत उसने अवैध बजरी परिवहन के एवज में परिवादी रावतभाटा के इमरान खान व सह परिवादी आशिफ से ली थी। ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश चौधरी के निर्देश पर ब्यूरो चित्तौडग़ढ़ सीआई नरेन्द्रसिंह के नेतृत्व में एक टीम ने आरोपी थाना प्रभारी को रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर उसकी टेबल की दराज से यह राशि बरामद की थी। ब्यूरो की टीम ने बुधवार को उसे उदयपुर स्थित न्यायालय में पेश किया, जहां से जेल भिजवा दिया गया। ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश चौधरी ने बताया कि आरोपी के घर की भी तलाशी ली गई, लेकिन वहां कुछ नहीं मिला।

Updated On:
10 Jul 2019, 09:25:31 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।