पुलिस के हत्थे चढ़े गंगा कावेरी एक्सप्रेस ट्रेन के लुटेरे यूपी एमपी से लेकर महाराष्ट्र तक में फैला है गैंग का नेटवर्क

By: Akansha Singh

Updated On: Sep, 12 2018 06:32 PM IST

  • लुटेरों के पास से लूट का माल व् असलहे भी बरामद हुए हैं

चित्रकूट: गंगा कावेरी एक्सप्रेस ट्रेन(12669 चेन्नई से पटना) में हुई लूट में शामिल आधा दर्जन शातिर लुटेरों को जीआरपी आरपीएफ व् जिला पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में गिरफ्तार कर लिया गया. वारदात में शामिल इतने ही अन्य बदमाशों की तलाश जारी है. खाकी की गिरफ्त में आए लुटेरों के पास से लूट का माल व् असलहे भी बरामद हुए हैं. इन सबके बीच खास बात यह कि कानून के शिकंजे में आए ये बदमाश ट्रेनों की टेक्निकल जानकारी के मास्टर माइंड हैं और इन्हें ट्रेन व् सिग्नलिंग प्रणाली की खासी जानकारी है. ये सभी ट्रेनों में इस तरह की वारदातों को अंजाम देने वाले पेशेवर लुटेरे हैं जो अवैध वेंडर के रूप में सफर करते हैं और मौका मिलने पर डकैती का प्लान बनाते थे.

गिरफ्तार किए गए आधा दर्जन लुटेरे

चेन्नई से पटना जाने वाली गंगा कावेरी एक्सप्रेस ट्रेन डकैती कांड का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने आधा दर्जन लुटेरों को गिरफ्तार किया है. आईजी जीआरपी बीआर मीणा, एसपी रेलवे पीके मिश्रा ने सयुंक्त रूप से प्रेस कॉंफ्रेंस करते हुए बताया कि पकड़े गए बदमाशों का एक अन्तर्राजीय गिरोह है जो यूपी एमपी से लेकर महाराष्ट्र तक फैला है. पुलिस ने इनकी कड़ियां तलाशते हुए इन्हें धर दबोचा. पकड़े गए बदमाशों के पास से वारदात में लूटे गए सोने चांदी के जेवरात, नकदी व् असलहे जिनमें तमंचे व् कारतूस शामिल हैं बरामद हुए. गिरफ्त में आए लुटेरे नई उम्र के हैं और शातिर किस्म के अपराधी हैं. ट्रेनों के संचालन से लेकर सिग्नल की टेक्निकल जानकारी में ये बदमाश माहिर हैं जिसकी वजह से इनका गैंग जंगली इलाकों बीहड़ों के बीच से गुजरती हुई ट्रेन में मौका मिलते ही लूट की वारदात को अंजाम देता है. अन्य अभियुक्तों की तलाश में छापेमारी जारी है.

डेढ़ हफ्ते पहले हुई थी लूट की वारदात

गौरतलब है कि डेढ़ हफ्ते पहले(2-3 सितम्बर की देर रात) चेन्नई से पटना जाने वाली गंगा कावेरी एक्सप्रेस ट्रेन(12669) में इलाहाबाद मानिकपुर रेलखण्ड के पनहाई स्टेशन के पास ट्रेन के आउटर पर खड़े होने के दौरान दर्जन भर बदमाशों ने जमकर लूटपाट की थी और विरोध करने पर आधा दर्जन यात्रियों के ऊपर प्राणघातक हमला भी किया था जिसमें तीन यात्री गंभीर रूप से घायल हो गए थे. घटना के बाद जीआरपी आरपीएफ व् जिला पुलिस तथा रेलवे प्रशासन में हड़कम्प मच गया था व् यात्रियों की सुरक्षा को लेकर पूरे सिस्टम की किरकिरी हो रही थी.

दस्यु गैंगों का हांथ होने के दावे हुए हवा हवाई

वारदात के बाद जीआरपी व् आरपीएफ के अफसर पाठा के बीहड़ों में सक्रीय दस्यु गैंगों(साधना पटेल दीपक शिवहरे, बबुली कोल व् अन्य छोटे गैंग) पर शक जता रहे थे लेकिन उनके ये दावे हवा हवाई साबित हुए और ट्रेनों में लूट की वारदातों को अंजाम देने वाले पेशेवर लुटेरे ही इस कांड के भी मास्टर माइंड निकले.

 

Published On:
Sep, 12 2018 06:23 PM IST