बाढ़ का कहर, बच्चों को स्कूल जाने में हो रही दिक्कत, सभी परेशान

By: Akansha Singh

Published On:
Sep, 12 2018 01:23 PM IST

  • विकास की बाट जोहते इन इलाकों में यमुना का जलस्तर बढ़ने से कुछ इस तरह हो रहा आवागमन स्कूली बच्चों को खासी दिक्कतें

चित्रकूट. यमुना नदी का जलस्तर बढ़ने से जनपद के मऊ थाना क्षेत्र के कई गांवों में आवागमन बाधित हो गया है। विकास की बाट जोहते इन इलाकों में जो रपटे व पुल बनाए गए हैं उनकी ऊंचाई ज्यादा न होने से अक्सर यह समस्या तब उत्पन्न होती है जब यमुना नदी का जलस्तर बढ़ता है। बाढ़ प्रभावित इलाकों में आने वाले मवई कला, बरवारा, बराह कोटरा, आदि बड़े प्रमुख बड़े ग्रामीण इलाके प्रभावित हैं। इन क्षेत्रों में मुख्य मार्ग जलमग्न हो गए हैं और परिणामतः नावों द्वारा ग्रामीण इस पार से उस पार एवं उस पार से इस पार उतर रहे हैं। ऐसा नहीं कि स्थानीय बाशिन्दों ने हुक्मरानों से लेकर नौकरशाही तक को इन समस्याओं के बारे में अवगत नहीं कराया परंतु परंपरा के मुताबिक पूरे सिस्टम की उदासीनता अभी इन ज्वलन्त समस्याओं को लेकर दूर नहीं हुई। ग्रामीणों के मुताबिक यदि रपटे व पुल ऊंचे कर दिए जाएं तो काफी हद तक समस्या का समाधान हो जाएगा और इसके लिए कई बार हर पार्टी के सांसद विधायक से कहा गया लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई और न ही अधिकारीयों ने सुनी।


स्कूली बच्चों को खासी दिक्कतें
इस समस्या से सबसे ज़्यादा स्कूली बच्चे प्रभावित हो रहे हैं। घर से स्कूल व स्कूल से घर तक आवागमन के लिए उन्हें खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जान जोखिम में डालकर नावों द्वारा पढ़ाई के लिए अपने गांव से स्कूल तक पहुंचते है। इस बीच उनके अभिभावकों को भी सकुशल लौटने की चिंता सताती रहती है।


प्रस्ताव बनाकर भेजा है
इस पूरी समस्या के बारे में जब पत्रिका ने चित्रकूट बांदा लोकसभा क्षेत्र से भाजपा सांसद भैरव प्रसाद मिश्रा से पूछा तो उनका कहना था कि प्रभावित इलाकों में रपटों व सड़कों के चौड़ीकरण उनके निर्माण को लेकर प्रस्ताव बनाकर भेजा गया है। शासन तक उम्मीद है कि जल्द बजट स्वीकृत होकर काम शुरू हो जाएगा। इसके लिए वे प्रयासरत हैं।

Published On:
Sep, 12 2018 01:23 PM IST