पिता की थी यह अंतिम इच्छा, जिसे बेटियों ने की पूरी

By: Dinesh Sahu

Published On:
Aug, 13 2019 11:29 AM IST

  • मरणोपरांत मेडिकल कॉलेज को किया देह दान

छिंदवाड़ा. अपने लिए तो लोग जीते ही है, लेकिन जिदंगी के बाद भी ऐसा कुछ कर जाना कि इतिहास रच देने का जज्बा कुछ खास लोगों में ही होता है। ऐसा ही एक मामला सोमवार को देखने को मिला है, जिसमें छिंदवाड़ा के फ्रेंड्स कॉलोनी निवासी 74 वर्षीय सत्यप्रकाश शुक्ला की अंतिम इच्छा को उनकी बेटियों ने पूरा किया। दरअसल स्वर्गीय शुक्ला की इच्छा थी कि मरने के उपरांत उनकी देह को मेडिकल अध्ययन के उपयोग में लिया जाए, जिसे उन्होंने जीवित रहते अपनी बेटियों को बता दिया था।

 

रविवार की शाम करीब 5 बजे छत्तीसगढ़ के दुर्ग में बेटियों के यहां उन्होंने अंतिम सांस ली तथा पिता की अंतिम इच्छा को पूरी करने के लिए फ्रीजर में शव को रख छिंदवाड़ा लाया और दस्तावेजी कार्रवाई पूरी कर शव को दान कर दिया। बताया जाता है कि मृतक सेवानिवृत्त बैंक अधिकारी थे।

 

परिवार में पत्नी तथा दो बेटियां है, जबकि बेटे की मौत किसी वजह से काफी समय पहले हो चुकी है। बताया जाता है कि देह दान के पूर्व प्रशासनिक प्रक्रिया पूरी करना आवश्यक होता है। इसी के चलते परिवार के सदस्यों से इस संदर्भ में शपथ पत्र लिया जाता है।

 

जिले का पहला मामला -


छिंदवाड़ा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस से सम्बद्ध जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. सुशील राठी ने बताया कि देह दान करने का अब तक यह पहला मामला है। हालांकि मृतक व्यक्ति द्वारा पूर्व में किसी प्रकार की लिखित घोषणा नहीं की गई थी, फिर भी परिवार के लोगों ने आदर्श स्थापित किया है।

 

एनाटॉमी विभाग में रखा गया सुरक्षित -

 

इधर मेडिकल कॉलेज के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. अमोल दृगकर ने बताया कि देह दान की स्थिति में मृतक का शरीर 6 घंटे की भीतर उपलब्ध होना चाहिए। हालांकि फ्रीजर में शव को 48 घंटे तक सुरक्षित रखा जा सकता है। वहीं सिविल सर्जन डॉ. राठी से सूचना मिलने के बाद कॉलेज का दल रवाना हुआ तथा आवश्यक दस्तावेजी कार्रवाई कर शव को एनाटॉमी विभाग में सुरक्षित रखवा दिया गया है।

Published On:
Aug, 13 2019 11:29 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।