जेल में पहुंची महिलाओं ने किया यह नेक काम, पढ़ें पूरी खबर

By: Ashish Kumar Mishra

Published On:
Aug, 13 2019 11:39 AM IST

  • रक्षाबंधन पर्व के उपलक्ष्य में कार्यक्रम का आयोजन किया।

 


छिंदवाड़ा. योग वेदांत महिला सेवा समिति ने सोमवार को जिला जेल में रक्षाबंधन पर्व के उपलक्ष्य में कार्यक्रम का आयोजन किया। जेल में बंदी भाईयों एवं स्टाफ को वैदिक रूप से पूजा अर्चना कर रक्षा सूत्र बांधा। इस अवसर पर साध्वी रेखा का सतसंग भी संपन्न हुआ। उन्होंने कहा कि मनुष्य के जीवन में तीन प्रकार की जेल होती है। पहली मां के गर्भ की जेल दूसरी सरकार की जेल एवं तीसरी कर्मबंधन की जेल होती है। इसमें से पहली एवं दूसरी जेल से मनुष्य रिहा हो जाता है। मगर कर्मबन्धनों की जेल हमें 84 लाख योनिओं में भटकाती है। इसलिए सभी मनुष्य को अच्छा और बुरा समझकर कर्म करना चाहिए। उन्होंने कहा कि 84 लाख जन्मों के बंधन से सतगुरू ही मुक्ति दिलाते है। इसलिए प्रत्येक मनुष्य को सतगुरू की शरण में जाना चाहिए। साध्वी ने सभी बंदियों को हास्य प्रयोग एवं स्वस्थ और प्रसन्न रहने की कुछ योगिक क्रियाओं से अवगत कराया। समिति ने जिला जेल में लगभग 650 बंदी एवं सीमा पर तैनात लगभग तीन हजार सैनिकों को रक्षा सूत्र प्रेषित कर रक्षा बंधन पर्व मनाया। कार्यक्रम के आयोजन में महिला समिति की सुमन दोईफोडे, विमल शेरके, डॉ. मीरा पराडकऱ, साध्वी संगीता, गुरूकुल की दर्शना खट्टर, सकुंतला कराड़े, निर्मिला पटेल, प्रेमलता सूर्यवंशी, अनिता कुमारी, संगीता महाजन, करुणेश्वरी पाल, समिति के मदन मोहन परसाई, खजरी आश्रम के जयराम, पीआर शेरके, एमआर पराडकऱ, दीपक दोईफोडे, हर्शुल रघुवंशी, सुभाष सुखेजा आदि ने सहयोग दिया।

Published On:
Aug, 13 2019 11:39 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।